बिहार खबरें

Symptoms Of Heart Attack: हार्ट अटैक आने से महीनाभर पहले शरीर कई तरह के संकेत देता है। इन्हें समझकर आप इसकी गंभीरता से बच सकते हैं। हार्ट अटैक के लक्षण (Symptoms Of Heart Attack) महिलाओं और पुरुषों में एक जैसे होते हैं लेकिन महिलाओं में इन लक्षणों को पहचानना पुरुषों की अपेक्षा मुश्किल होता है।

Symptoms Of Heart Attack

हार्ट अटैक की समस्या (Heart attack symptoms in hindi) एक समय पर पश्चिमी देशों की बीमारी हुआ करती थी लेकिन आज के समय में अपने देश में भी स्थिति यह है कि 24 साल के युवा भी हार्ट अटैक का शिकार (Heart attack symptoms in hindi) होकर अपनी जान गंवा रहे हैं। हार्ट अटैक किसी को भी कहीं भी और कभी भी आ सकता है। ऐसे में तुरंत इससे बचना संभव नहीं है। लेकिन हार्ट अटैक आने से करीब महीना भर पहले से ही आपके शरीर में कुछ खास बदलाव (Symptoms Of Heart Attack) होने लगते हैं। या कहिए कि आपका शरीर आपको सचेत करने लगता है। इन लक्षणों को पहचानकर आप सतर्क होकर हार्ट अटैक की समस्या से बच सकते हैं। यहां जानें, कौन से हैं वे लक्षण, जो एक महीना पहले से ही नजर आने लगते हैं।

हार्ट अटैक क्या है (Symptoms Of Heart Attack)

Symptoms Of Heart Attack

कोरोनरी धमनियों (coronary arteries) में होने वाली बीमारी की वजह से हार्ट अटैक (signs of a heart attack) आता है। ये रक्त वाहिकाएं दिल तक खून पहुंचाने का काम करती हैं और एनर्जी और ऑक्सीजन के जरिए इसे जिंदा रखती हैं। कोरोनरी धमनी की बीमारी में दिल की मांसपेशियों में खून ठीक से नहीं पहुंच पाता है और इसकी वजह से हार्ट अटैक (Mini heart attack symptoms) आ जाता है। दिल का दौरा पड़ने से दिल की धड़कन रुक सकती है। इसे कार्डियक अरेस्ट कहते हैं। कार्डियक अरेस्ट आने पर नाड़ी चलनी बंद हो जाती है।

आगे पढ़ें: वजन बढ़ाने व मोटा होने के आसान तरीके | How to gain weight fast in 1 week

हार्ट अटैक आने के कारण (signs of a heart attack)

  • हार्ट अटैक की समस्या (Symptoms Of Heart Attack) तब होती है, जब हृदय के किसी एक हिस्से में ब्लड की सप्लाई बंद हो जाती है या पर्याप्त मात्रा में इस पार्ट को ब्लड नहीं मिल पाता है।
  • जब ब्लड फ्लो को बाधित हुए लंबा समय हो जाता है तो हार्ट मसल्स डैमेज होनी शुरू हो जाती हैं। इससे हार्ट अटैक की स्थिति बनती हैं।
  • हार्ट अटैक की मुख्य वजह (Symptoms Of Heart Attack) कोरोनरी आर्टरी डिजीज यानी सीएडी को माना जाता है। इसके अलावा बहुत अधिक तेज दर्द के कारण भी अटैक की समस्या होती है। हालांकि इस कारण होने वाले हार्ट अटैक की संख्या बहुत कम होती है।
  • हृदय की धमनियों यानी हार्ट आर्टरी का अचानक सिकुड़ जाना भी हार्ट अटैक की वजह बन सकता है। क्योंकि ऐसा होने पर हार्ट मसल्स में ब्लड का फ्लो रूक जाता है।

आगे पढ़ें: Mistake face wash | फेसवॉश के दौरान भारी पड़ सकती है ये गलतियाँ, ज्यादातर महिलाएं करती हैं ऐसा

हार्ट अटैक आने से पहले के लक्षण आइए जानते हैं (Mini heart attack symptoms)

Symptoms Of Heart Attack

हार्ट अटैक (Heart attack symptoms in hindi) अचानक ही आता है, लेकिन ऐसा नहीं कि इसके संकेत या बदलाव शरीर में पहले से नहीं हो रहे होते। हार्ट या ब्रेन का अटैक अचानक होता जरूर है, लेकिन इसके संकेत एक महीने से लेकर कुछ हफ्ते पहले (6 signs of heart attack a month before) मिलने लगते हैं।

सांस फूलना

सांस फूलने की दिक्कत होने लगती है। जैसे आपको कुछ अचानक लगता है कि रोज तो आप दो फ्लोर या लंबी दूरी चलकर ऑफिस जाते थे लेकिन अभी तो एक मंजिल उतरते या चढ़ते ही आपकी सांस फूलने लगती हैं। अगर ऐसा लंबा समय तक हो रहा है और आपकी हेल्थ में किसी और तरह की दिक्कत नहीं है तो आपको इस समस्या को अनदेखा नहीं करना चाहिए।

सीने में बेचैनी या दर्द

अगर आपके सीने में असहज दबाव, दर्द, सुन्नता, निचोड़न, परिपूर्णता या दर्द जैसा महसूस हो रहा है तो इसे अनदेखा नहीं करना चाहिए। अगर यह बेचैनी आपकी बाहों, गर्दन, जबड़े या पीठ तक फैल रही है तो आप सचेत हो जाएं और जितनी जल्‍दी हो सके अस्‍पताल पहुंचें। यह हार्ट अटैक आने के कुछ मिनट या घंटे पहले के लक्षण हैं।

थकान महसूस होना

बगैर किसी मेहनत या काम के अगर थकान हो रही है तो यह हार्ट अटैक (Symptoms Of Heart Attack) अलार्म हो सकता है। दरअसल जब हार्ट की धमनियां कोलेस्ट्रॉल के कारण बंद या संकुचित हो जाती हैं तब दिल को अधि‍क मेहनत करने की आवश्यकता होती है। जिस वजह से जल्द ही थकान महसूस होने लगती है। ऐसे में अगर आपको रात में अच्छी खासी नींद के बाद भी आलस और थकान का अनुभव हो रहा है तो यह अलार्म हो सकता है।

चक्‍कर या उल्टी आना  

अगर आपको दिन में कई बार चक्‍कर आ रहा है, उल्‍टी जैसा महसूस हो रहा है और आप असहज महसूस कर रहे हैं तो यह भी हार्ट अटैक (Silent heart attack symptoms) का लक्षण हो सकता है। दरअसल जब आपका हार्ट कमजोर हो जाता है तो उसके द्वारा होने वाला रक्त का संचार भी सीमित हो जाता है। ऐसे में दिमाग तक आवश्यकता के अनुसार ऑक्सीजन नहीं पहुंच पाती। ऐसा होने से चक्कर आना या सिर भारी होना जैसी समस्याएं होने लगती हैं।

खांसी और हाथ पैर में सूजन होना

आमतौर पर खांसी को मौसम बदलने के दौरान होनेवाली समस्या माना जाता है। इसके अतिरिक्त लंबे समय तक रहनेवाली खांसी टीबी का लक्षण हो सकती है। लेकिन खांसी हार्ट की बीमारी का संकेत भी होती है। यह समस्या हर व्यक्ति में हार्ट की बीमारी के लक्षण के रूप में नजर आए, यह जरूरी नहीं है। अगर किसी को लगातार खांसी हो रही है और हाथ-पैर में सूजन आ जाने की समस्या बनी हुई है तो इन लक्षणों को अनेदखा नहीं करना चाहिए। ये हार्ट की बीमारी के साथ ही किसी अन्य गंभीर रोग का लक्षण भी हो सकते हैं।

तेज पसीना और धड़कनों की रफ्तार

बिना किसी खास कारण अचानक से तेज पसीना आना। यानी जब आपने कोई शारीरिक श्रम ना किया हो या आप तेज गर्मी से ना आए हों और अचानक से आप पसीना-पसीना हो जाते हैं तो यह भी दिल की कमजोरी का एक लक्षण हो सकता है। कई बार धड़कनें बहुत तेज हो जाना या बहुत धीमी हो जाना भी दिल की कमजोरी की तरफ इशारा करती है। इस दौरान कई लोगों को ऐसा अनुभव होता है, जैसे हार्ट सिकुड़ रहा है। साथ ही तेज घबराहट भी हो सकती है। अगर यह स्थिति बार-बार बन रही हो तो हल्के में ना लें।

खर्राटे

नींद में खर्राटे लेना साधारण सी बात है। हालांकि खर्राटों की तेज आवाज के साथ दम घुटने जैसा महसूस होना स्लीपिंग एपनिया के लक्षण हैं। रात में सोते वक्त कई बार हमारी सांस रुक जाती है, जिससे हृदय पर अतिरिक्त भार पड़ता है।

आगे पढ़ें: घुटने के दर्द के लिए घरेलू उपचार | Knee pain treatment at home

महिलाओं में हार्ट अटैक के लक्षण (Symptoms of heart blockage in females)

महिलाओं और पुरुषों में हार्ट अटैक (symptoms of heart blockage in females) के लक्षणों में कुछ अंतर हो सकता है। ऊपर जो लक्षण बताए गए हैं, वे तो सभी में देखने को मिलते हैं लेकिन महिलाओं में कुछ अलग सिंप्टम्स भी हार्ट की समस्या (Heart attack symptoms in women) की तरफ इशारा करते हैं।

  • महिलाओं के सीने में और स्तन मैं दर्द होना, (Signs of heart attack in women) शरीर के ऊपरी भाग में यानि गर्दन, पीठ, दांत, भुजाएं और कंधे की हड्डी में तेज़ दर्द होना।
  • चक्कर आना, बेचैनी महसूस करना, या सिर घूमना, जी मचलाना, उलटी, पेट खराब होना आदि पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अधिक दिखाई देते हैं। दिल में गहराई तक जेक रक्त पहुंचाने वाली दायीं धमनी अवरुद्ध हो जाने के वजह से अक्सर ऐसा होता है।
  • जबड़े में दर्द होना महिलाओं में हार्ट अटैक (Pre heart attack symptoms female) के प्रमुख लक्षण है क्योंकि इसके पास जो नसें होती हैं वे आपके हृदय से निकलती हैं। ये दर्द थोड़ी-थोड़ी देर में होता है।
  • सांस लेने में परेशानी, खांसी का दौरा और भारी सांस लेना  (एक अध्ययन से पता चला है कि 42% महिलाएं जिन्हें हार्ट अटैक (Heart attack in women)   आया उन्हें इस समस्या का सामना करना पड़ता है
  •  55 साल उम्र के महिलाओं में हॉर्मोन्स के बदलाव के वजह से अचानक पसीना आना बहुत सामान्य होते है। हालांकि,अचानक पसीना आने पर ये हार्ट अटैक (Silent heart attack female heart attack symptoms) के लक्षण भी हो सकते हैं।

आगे पढ़ें: आगे पढ़ें: इलायची खाने के फायदे: आइए जानते हैं इलायची के सेवन से सेहत में होने वाले फायदे, इलायची कैंसर जैसी बीमारी को भी मात देती हैं

पुरुषों में हार्ट अटैक के लक्षण (Signs of a heart attack in men)

पुरूषों और महिलाओं में हार्ट अटैक के लक्षण (Pre heart attack symptoms male) अक्सर समान् पाया जाता है। हालांकि पुरुषों में पाए जाने वाले हार्ट अटैक (Signs of a heart attack in men) के ये 3 लक्षण मुख्य है-

  • लगातार खर्राटा लेना और सोते समय पर्याप्त ऑक्सीजन न खींच पाना हार्ट अटैक के संकेत हो सकते है। नींद पूरी न होना हार्ट अटैक का खतरा बढ़ा देता है। इसका इलाज जल्द से जल्द होनी चाहिए।
  • टहलने पर पैरों में दर्द हार्ट अटैक आने का संकेत (Symptoms Of Heart Attack) हो सकता है। धमनियों का संकुचित हो जाने और रक्त प्रवाह बाधित होने पर जोड़ों में, पेट और सिर मैं खून कम पहुँचता है और पैरो में खून की कमी के वजह से दर्द होता है।
  • पेट में दर्द होना और ऊपरी पीठ दर्द होना।

आगे पढ़े: स्ट्रेच मार्क्स हटाने के घरेलू उपाय | How To Remove Stretch Marks in Hindi

हार्ट अटैक का खतरा बढ़ाने वाली आदतें- (Habits that increase heart attack risk)

वजन पर कंट्रोल न रखना

भागदौड़ भरी इस जिंदगी में ज्यादातर लोग मोटापे या फिर अधिक वजन की समस्या से परेशान हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञ इसे हार्ट अटैक (Symptoms Of Heart Attack) के जोखिम कारकों में से एक मानते हैं। मायोहेल्थ कहता है कि मोटापा के कारण हाई ब्लड कोलेस्ट्रॉल, हाई ट्राइग्लिसराइड, हाई ब्लड प्रेशर और मधुमेह का खतरा बढ़ जाता है, यह सभी स्थितियां हार्ट अटैक के जोखिम (Symptoms Of Heart Attack) को बढ़ा देती हैं। यही वजह है कि हार्ट अटैक के खतरे  को कम करने के लिए समय रहते अपना वजन कम कर लें

स्मोकिंग और टेंशन

कई अध्ययनों से पता चलता है कि धूम्रपान करने और अधिक तनाव लेने वाले लोगों में हार्ट अटैक का खतरा (Mini heart attack symptoms) अधिक होता है। दरअसल, धूम्रपान करने से समय के साथ धमनियों में प्लाक बनने लगता है, इससे धमनियों में संकुचन और  हृदय में रक्त का प्रवाह कम हो जाता है, जिसके कारण दिल का दौरा पड़ने का खतरा बढ़ जाता है। इसी तरह से तनाव अधिक लेने से ब्लड प्रेशर की समस्या भी बढ़ जाती है, जिसे हृदय रोगों के मुख्य कारक के रूप में देखा जाता है। यही वजह है कि हेल्थ एक्सपर्ट्स तनाव न लेने और धूम्रपान से दूर रहने की सलाह देते हैं।

फिजिकल इनएक्टिविटी

हेल्थ एक्सपर्ट्स कहते हैं कि यदि आपको आराम तलब जिंदगी पसंद है तो ये आदत हार्ट अटैक का खतरा बढ़ा ( Symptoms Of Heart Attack) सकती है। इसमें कोई शक नहीं है कि फिजिकल इनएक्टिविटी से हृदय रोगों का जोखिम कई गुना तक बढ़ जाता है। क्योंकि जब शरीर निष्क्रिय रहता है तो  धमनियों में वसायुक्त पदार्थ का निर्माण होने लगता है। यदि आपके हृदय में रक्त ले जाने वाली धमनियां क्षतिग्रस्त या बंद हो जाती हैं तो इससे दिल का दौरा पड़ सकता है। यही कारण है कि सभी लोगों को रोजाना व्यायाम करने की सलाह दी जाती है। योग और नियमित व्यायाम करने से हार्ट अटैक और दिल के रोगों का जोखिम काफी हद तक कम हो सकता है।

आगे पढ़ें: Ayurvedic weight loss drinks: वजन को तेजी से कम करने के लिए रोजाना पिएं आयुर्वेदिक काढ़ा, और बढ़ते वजन की समस्याओं को चुटकियों में दूर करें

निष्कर्ष:  लेख में उल्लिखित सुझाव केवल सामान्य जानकारी के उद्देश्य से हैं और इसे पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। कोई भी फिटनेस व्यवस्था या चिकित्सकीय सलाह शुरू करने से पहले कृपया डॉक्टर से सलाह लें।

By Biharkhabre Team

मेरा नाम शाईना है। मैं बिहार के भागलपुर कि रहने बाली हूं। मैंने भागलपुर से MBA की पढ़ाई कंप्लीट की हूं। मैं Reliance में कुछ समय काम करने के बाद मैंने अपना खुद का एक ब्लॉग बनाया। जिसका नाम बिहार खबरें हैं, और इस पर मैंने देश-दुनिया से जुड़े अलग-अलग विषय में लिखना शुरू किया। मैं प्रतिदिन देश दुनिया से जुड़े अलग-अलग जानकारी अपने Blog पर Publish करती हूं। मुझे देश दुनिया के बारे में नई नई जानकारी लिखना पसंद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.