बिहार खबरें

आप सभी ने गुड़हल का फूल (Gudhal Ke Phool Ke Fayde) तो देखा ही होगा। इसका अंग्रेजी नाम हिबिस्कस (Hibiscus) है और इसमें अनेक स्वास्थ्यवर्धक गुण (Hibiscus ke phool ke fayde) भी हैं। अक्सर लोग अपने घरों में इस खूबसूरत फूल का पौधा लगाते हैं। लेकिन अगर आपको लगता है कि ये फूल सिर्फ आपके आंगन की खूबसूरती ही बढ़ाता है तो शायद आप अभी इस फूल के बारे में ज्यादा कुछ जानते नहीं है। दरअसल गुड़हल के फूल में काफ अधिक औषधीय गुण (Gudhal ke fayde) भी होते हैं। जिसकी वजह से इन फूलों का इस्तेमाल आप कई शारीरिक समस्याओं को दूर करने के लिए कर सकते हैं। गुड़हल का फूल छोटी मोटी चोट को भरने से लेकर आपकी सेक्स लाइफ को बेहतर बनाने तक का काम करता है। चलिए विस्तार से जानते हैं इस खूबसूरत फूल के सभी फायदों  (Gudhal ke phool ke fayde in hindi) के बारे में।

Gudhal Ke Phool Ke Fayde

गुड़हव के फूल के फायदे | Gudhal ke phool ke fayde

गुड़हल के उपयोग से सेहत की अनेक बीमारियों को दूर किया जा सकता है। बालो के साथ सेहत को स्वस्थ भी बनाया जा सकता है। जानते हैं इसके फायदों (Arhul phool ke fayde) के बारे में…

Gudhal Ke Phool Ke Fayde

ब्लड प्रेशर कंट्रोल करे

अगर आपको हाई ब्लड प्रेशर की समस्या है तो इस फूल का पौधा (Gudhal Ke Phool Ke Fayde) घर पर ज़रूर लाकर रखें, ये आपके बहुत काम आएगा। कई प्रकार के अध्ययनों से ये साबित हुआ है कि ये फूल ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करके दिल की बीमारी होने की संभावना को कम करता है। अब बताइये, इससे नैचुरल तरीका मिलेगा आपको अपना ब्लड प्रेशर कंट्रोल करने का?

खरोंच और घाव ठीक करे

घर में अगर बच्चे हैं तो समझिये छोटी मोटी चोट तो आपके लिए आम बात होगी। बच्चे खेलते-खेलते गिर जाते हैं या कोई नुकीली चीज़ लगा लेते हैं जिससे उनको छोटा घाव हो जाता है। या अगर आप किचन में काम करते हुए चाकू से उंगली काट लेती हैं तो गुड़हल के पत्तों का लेप आपके बहुत काम आएगा। इससे बहुत जल्दी घाव भरता है।

आगे पढ़ेMonsoon makeup tips: मानसून में शादी करने जा रहे हैं, तो लंबे समय तक मेकअप को सेट रखने के लिए ट्राय करें ये टिप्स

हीमोग्लोबिन में फायदेमंद 

20 से 30 गुड़हल की कलियों (Arhul ke phool khane ke fayde) को छाया में सुखाकर बारीक पीस लें। अब इसे एक एयर टाइट कंटेनर में स्टोर करके रख लें। शरीर में खून की कमी में सुधार के लिए इसे दिन में दो बार आधा चम्मच शहद के साथ लें।

पेद दर्द व सूजन कम करे

गुड़हल के पत्तों में फ्लेवनॉयड और पॉलीफेनॉल होता है जो शरीर में किसी भी प्रकार के सूजन और पेट की गड़बड़ी के उपचार में मदद करता है। पेट दर्द तो बहुत आम बीमारी है जो घर में किसी न किसी को लगा ही रहता है। इसलिए कोशिश करें कि ये पौधा आपके घर में हो, ताकि आपको ज्यादा दवा न खाना पड़े।

आगे पढ़ें: Saunf Beauty Benefits: सौंफ से बाल को मजबूत और चेहरे को खूबसूरत बनाएं, जानिए इसको इस्तेमाल कैसे करें

शैंपू की जगह गुड़हल का इस्‍तेमाल करें

शैंपू में कई तरह के के‍मिकल होते हैं जो स्‍कैल्‍प से प्राकृतिक तेल को नष्‍ट कर बालों को बेजान बना देते हैं। शैंपू की जगह गुड़हल के फूलों (Gudhal Ke Phool Ke Fayde) से घर पर ही अपने लिए शैंपू तैयार करें। बेसन और पानी में गुड़हल के फूलों के पाउडर को मिलाकर बालों को धोने से फायदा होता है।

​गंजेपन को दूर करें (Uses of Arhul to Cure Baldness in Hindi)

कई अध्‍ययनों में ये बात साबित हो चुकी है कि गुड़हल का अर्क गंजेपन का इलाज करने में उपयोगी है। गंजापन दूर करने की दवाओं की तरह ही गुड़हल भी असरकारी है और दवाओं की तरह इसके कोई हानिकारक प्रभाव भी नहीं होते हैं। गुड़हल के 6 से 8 फूलों और पत्तियों को पीसकर 3 घंटे के लिए प्रभावित हिस्‍से पर हफ्ते में दो बार लगाएं।

आगे पढ़ें: स्ट्रेच मार्क्स हटाने के घरेलू उपाय | How To Remove Stretch Marks in Hindi

​डैंड्रफ का रामबाण इलाज (Gudhal powder ke fayde)

गुड़हल के फूलों और पत्तों को पीसकर पाउडर (Gudhal ke phool ka powder ke fayde) बना लें और इसमें हिना पाउडर मिक्‍स करें। अब इसमें आधा नींबू डालकर पेस्‍ट बनाएं और उसे बालों पर लगाएं। एक घंटे बाद बालों को धो लें। इससे डैंड्रफ की समस्‍या दूर हो जाएगी।

बाल बनाए सॉफ्ट

गुड़हल के फूलों के अंदर मॉइश्चराइजिंग (Moisturize) गुण पाए जाते हैं। इसके अलावा इसके अंदर मौजूद कई तरह के पोषक तत्व आपके बालों को नया जीवन और एक नया रंग देने का काम करते हैं।

आगे पढ़ें: बालों को झड़ने से रोकने के घरेलू उपाय | Home remedies for hair fall and regrowth

बालों की ग्रोथ बढ़ाता है

गुड़हल के फूल (Gudhal flower ke fayde in hindi) में प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले अमीनो एसिड पाए जाते हैं जो बालों को पोषक देते हैं। इसके इस्तेमाल से बालों की ग्रोथ बढ़ती है। हिबिस्‍कस के 5 फूल और 5 पत्तियां लें और उन्‍हें पीसकर पेस्‍ट बना लें। अब इसमें एक चम्‍मच बादाम तेल या जैतून का तेल डालें। इस पेस्‍ट को 30 मिनट के लिए बालों पर लगाएं और फिर गुनगुने पानी से बालों को धो लें। इससे बालों को पोषण (Gudhal Ke Phool Ke Fayde) मिलता है और बालों की ग्रोथ बढ़ती है।

सेक्स लाइफ में भरे उमंग (Benefits of Hibiscus Leaves in Increasing Sexual Stamina in Hindi)

जी हां, हैरान न हो। गुड़हल का फूल (Gudhal Ke Phool Ke Fayde) आपकी सेक्स लाइफ को बेहतर बनाने में भी आपकी मदद कर सकता है। इस फूल में पुरूषों के कामोत्तेजना को बढ़ाने का गुण होता हैं क्योंकि ये मेल एन्ड्रोजेन का काम करते है।

वजन को कम करने में मददगार है गुड़हल (Hibiscus Flower for weight control)

जिन लोगों को बार बार भूख लगती है उन्हें बता दें कि गुड़हल का सेवन करने से इस परेशानी से छुटकारा मिल जाता है। जो लोग कार्बोहाइड्रेट में समृद्ध भोजन का सेवन अधिक मात्रा में करते हैं उन लोगों में वजन बढ़ने की शिकायत ज्यादा देखने को मिलती है। ऐसे में गुड़हल की पत्तियों से बनी चाय काफी एनर्जेटिक होती है इसलिए जो व्यक्ति इसका सेवन करता है उसे लंबे समय तक भूख नहीं लगती। साथ ही पाचन क्रिया भी सुधरती है। ये अनावश्यक चर्बी को दूर करता है और ये वजन को कम करने में भी उपयोगी है।

गुड़हल के फूल की चाय (Gudhal Ke Phool Ki Chai)

गुड़हल के फूल (Gudhal Ke Phool Ke Fayde) की चाय डायबीजीट और बीपी के साथ बालों के झड़ने की समस्या से निजात दिलाता है। इसे बनाने के लिए एक गिलास उबलते पानी में 5 गुड़हल की पंखुड़ियां को डालें। 2 से 3 मिनट उबालने के बाद आंच से उतार लें। अब इसे एक बर्तन में छान लें और ठंडा होने दें। हल्का गुनगुना ही पी लें।

आगे पढ़ें: नींद आने का रामबाण उपाय: देर रात तक नींद न आने की हो रही हैं समस्या तो अपनाएं ये टिप्‍स, जल्द मिलेगा इन से लाभ

मधुमेह के लिए फायदेमंद (Use Hibiscus Flower For Diabetes)

गुड़हल के फूल (Gudhal ka phool khane ke fayde) को रात भर पानी में भिगो दें और अगले दिन इसे छान लें, और सुबह इसे घूंट-घूंट कर पीएं। इससे आपका शुगर लेवल कंट्रोल रहेगा। इस्तेमाल से पहले आप अपना शुगर लेवल चेक कर लें और पीने के बाद भी। यदि आपको कुछ नुकसान जैसा लगे तो न पीएं।

नींद न आने की परेशानी में गुड़हल से लाभ (Hibiscus Flower Benefits in Fighting with Insomnia in Hindi)

गुड़हल के 100 फूल लें। हरे डंठल को तोड़कर पंखुड़ियों को नींबू के रस में भिगो लें। इसे कांच के बर्तन में रात किसी खुले स्थान पर रख दें। सुबह इसे मसलकर छान लें। इसमें 650 ग्राम मिश्री या चीनी, तथा 1 बोतल उत्तम गुलाब जल मिला लें। इसे दो बोतलों में बंद कर धूप में दो दिन तक रखें। इस दौरान बोतल को हिलाते रहें। मिश्री अच्छी तरह घुल जाने पर शरबत बन जाता है। इसे 15 से 40 मिली की मात्रा में पीते रहने से नींद न आने की परेशानी में लाभ होता है।

 

By Biharkhabre Team

मेरा नाम शाईना है। मैं बिहार के भागलपुर कि रहने बाली हूं। मैंने भागलपुर से MBA की पढ़ाई कंप्लीट की हूं। मैं Reliance में कुछ समय काम करने के बाद मैंने अपना खुद का एक ब्लॉग बनाया। जिसका नाम बिहार खबरें हैं, और इस पर मैंने देश-दुनिया से जुड़े अलग-अलग विषय में लिखना शुरू किया। मैं प्रतिदिन देश दुनिया से जुड़े अलग-अलग जानकारी अपने Blog पर Publish करती हूं। मुझे देश दुनिया के बारे में नई नई जानकारी लिखना पसंद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.