बिहार खबरें

अमेरिका की इलेक्ट्रिक वाहन (ईवी) कंपनी टेस्ला भारत में मैन्युफैक्चरिंग प्लांट लगा सकती है। इसके संकेत टेस्ला के सीईओ एलन मस्क ने दिए हैं। आपको बता दें कि केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने टेस्ला को भारत में प्लांट लगाने की सलाह दी थी। इसके साथ ही उन्होंने भारत में आने के फायदे गिनाए थे। टेस्ला के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) एलन मस्क ने कहा (Tesla CEO Elon Musk said this) है कि यदि कंपनी भारत में आयातित वाहनों के साथ सफल रहती है, तो बाद में विनिर्माण संयंत्र लगाने पर विचार कर सकती है। मस्क ने कहा कि फिलहाल भारत में आयात शुल्क दुनिया में सबसे ऊंचा है। उन्होंने उम्मीद जताई कि इलेक्ट्रिक वाहनों पर कम से कम अस्थायी रूप से शुल्क राहत मिलेगी।

Tesla CEO Elon Musk said this

Tesla CEO Elon Musk said this  मस्क ने ट्विटर पर अपने फालोअर्स के साथ चर्चा किया

मस्क ने ट्विटर पर अपने फालोअर्स के साथ चर्चा में यह बात कही। मस्क से पूछा गया था कि क्या भारत में टेस्ला की कारें उतारी जाएंगी, इस पर उन्होंने कहा, ‘‘हम ऐसा करना चाहते हैं, लेकिन दुनिया के बड़े देशों में भारत में आयात शुल्क सबसे ऊंचा है।’’ फिलहाल भारत 40,000 डॉलर से अधिक की कीमत की पूरी तरह आयातित कार पर सीआईएफ (लागत, बीमा और भाड़े) के साथ 100 प्रतिशत का आयात शुल्क लगाता है। इससे कम लागत की कार पर आयात शुल्क की दर 60 प्रतिशत है। मस्क ने कहा कि भारत डीजल और पेट्रोल वाहनों की तरह की स्वच्छ ऊर्जा वाहनों को भी लेता है, जबकि ये दोनों वाहन उसके जलवायु लक्ष्यों के अनुकूल नहीं है।

Tesla CEO Elon Musk said this

एलन मस्क ने कहा कि भारत डीजल और पेट्रोल वाहनों की तरह ही स्वच्छ ऊर्जा वाहनों को भी लेता है, जबकि ये दोनों वाहन उसके जलवायु लक्ष्यों के अनुकूल नहीं है। एलन मस्क ने उम्मीद जताई कि भारत कम से कम इलेक्ट्रिक वाहनों पर अस्थायी शुल्क राहत देगा। यह एक अच्छा कदम होगा।

Tesla CEO Elon Musk said this

फिलहाल भारत 40,000 डॉलर से अधिक की कीमत की पूरी तरह आयातित कार पर सीआईएफ (लागत, बीमा और भाड़े) के साथ 100 फीसदी का आयात शुल्क लगाता है। इससे कम लागत की कार पर आयात शुल्क की दर 60 फीसदी है।

Tesla CEO Elon Musk said this

मस्क ने कहा कि भारत डीजल और पेट्रोल वाहनों की तरह की स्वच्छ ऊर्जा वाहनों को भी लेता है, जबकि ये दोनों वाहन उसके जलवायु लक्ष्यों के अनुकूल नहीं है। उन्होंने उम्मीद जताई कि भारत कम से कम इलेक्ट्रिक वाहनों पर अस्थायी शुल्क राहत देगा। ‘‘यह एक अच्छा कदम होगा।’’ एक फालोअर द्वारा यह पूछे जाने पर कि क्या टेस्ला भारत में स्थानीय स्तर पर असेंबली से शुरुआत करेगी, मस्क ने कहा कि यदि हम आयातित वाहनों के साथ सफल रहते हैं, तो भारत में कारखाना भी लगा सकते हैं।

आगे पढ़ें: मधुमक्खी पालन व्यवसाय के लिए सरकार देगी मदद, हर महीने 1 लाख रुपए से ज्यादा की कमाई

कर्नाटक, महाराष्ट्र और गुजरात सभी अमेरिकी ब्रैंड का स्वागत करने के लिए इच्छुक

ऐसे में कर्नाटक, महाराष्ट्र और गुजरात सभी खुले हाथों से अमेरिकी ब्रैंड का स्वागत करने के लिए इच्छुक हैं, गुजरात सरकार ने इस बीच टेस्ला को अपनी लोकल प्रोडक्शन फेसिलिटी बनाने के लिए 1000 एकड़ जमीन की पेशकश की है। कंपनी फिलहाल सभी उपलब्ध विकल्पों की जांच कर रही है।

आगे पढ़ें: Top Business Idea 2021: इस बिजनेस को आप घर पर ही कम लागत में शुरू करें, और महीनों का लाखों कमाए

गुजरात सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, टेस्ला ने अभी तक यह तय नहीं किया है कि इसके लिए गुजरात को चुना जाए या कर्नाटक। अधिकारी ने कहा, “गुजरात में सोशल लाइफ बहुत कम या बिल्कुल नहीं है, जबकि बेंगलुरु में ऐसा नहीं है। वे गुजरात और कर्नाटक दोनों सरकारों के साथ बातचीत करने की कोशिश कर रहे हैं।” अमेरिकी ईवी ब्रैंड ने आधिकारिक तौर पर 8 जनवरी, 2021 को भारत में अपना पैर जमाया, जब उसने बेंगलुरु में टेस्ला इंडिया मोटर्स एंड एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड के रूप में खुद को पंजीकृत किया।

 

By Biharkhabre Team

मेरा नाम शाईना है। मैं बिहार के भागलपुर कि रहने बाली हूं। मैंने भागलपुर से MBA की पढ़ाई कंप्लीट की हूं। मैं Reliance में कुछ समय काम करने के बाद मैंने अपना खुद का एक ब्लॉग बनाया। जिसका नाम बिहार खबरें हैं, और इस पर मैंने देश-दुनिया से जुड़े अलग-अलग विषय में लिखना शुरू किया। मैं प्रतिदिन देश दुनिया से जुड़े अलग-अलग जानकारी अपने Blog पर Publish करती हूं। मुझे देश दुनिया के बारे में नई नई जानकारी लिखना पसंद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.