बिहार खबरें

मधुबनी के ज़ेया बेलाल बने बिहार नीट टॉपर । नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) ने राष्ट्रीय पात्रता-सह-प्रवेश परीक्षा (नीट) का रिजल्ट सोमवार को घोषित कर दिया है। नीट 2021 में भाग लेने वाले अभ्यर्थी अब अपना रिजल्ट नीट की आधिकारिक वेबसाइट neet.nta.nic.in पर चेक कर सकते हैं। हालांकि, एनटीए ने अभ्यर्थियों को उनके रजिस्टर्ड ई-मेल पर रिजल्ट भेज दिया है।

मधुबनी के ज़ेया बेलाल बने बिहार नीट टॉपर

मधुबनी के ज़ेया बेलाल बने बिहार के नीट टॉपर

इधर, इस परीक्षा में बिहार के छात्रों का रिजल्ट शानदार रहा है। इस परीक्षा में मधुबनी के जेया बेलाल ने पूरे बिहार में टॉप किया है। सोमवार की देर शाम राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी एनटीए ने नीट 2021 का परीक्षा परिणाम घोषित किया है। जिसमें पंडौल मध्य पंचायत के वार्ड दो (पंडौल बाजार के रज्जाक बाबू टोल) निवासी मो. मसूद आलम अंसारी व रूही खातून के छोटे पुत्र जेया बेलाल ने परीक्षा में 720 में से 715 अंक लाकर ऑल इंडिया स्तर पर 19वां रैंक हासिल किया है। अप्रत्याशित सफलता प्राप्त कर उसने अपने गांव समाज व जिला का पूरे सूबे में परचम लहरा दिया है। अपने गांव के बच्चे की ऐसी सफलता से ग्रामीण गदगद हैं। पूरे गांव में खुशी का माहौल है। जेया बेलाल के घर पर सोमवार की देर शाम से ही बधाई देने वालों का तांता लगा हुआ है।

मधुबनी के ज़ेया बेलाल बने बिहार नीट टॉपर

ज़ेया बेलाल को ऑल इंडिया में 19वीं रैंक और बिहार में पहला स्थान मिला है। इनके पिता का नाम मो. मसूद अलम अंसारी है। दूसरा स्थान पटना के कंकड़बाग निवासी डॉ. सुनील कुमार के बेटे दर्श कौस्तुभ को मिला है। इन्होंने 720 अंक की परीक्षा में 706 अंक लाकर पूरे बिहार में दूसरा स्थान प्राप्त किया है। इन्हें 99.9964 पर्सेंटाइल मिला है। वहीं, रमन बनर्जी को 705 अंक मिले हैं। इनका ऑल इंडिया रैंक 103 है। गोल विलेज से तैयारी कर रहे अमन हर्ष 696 एवं प्रिंस प्रियदर्शी ने 691 अंक प्राप्त किया। जिनका ऑल इंडिया रैंक क्रमशः 241 एवं 390 है।

जेया बिलाल प्रारंभिक शिक्षा पंडौल सरकारी विद्यालय से किया

बता दें कि जेया बेलाल ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा पंडौल सरकारी विद्यालय से ही प्राप्त की थी। पंडौल प्रखंड मुख्यालय सामने स्थित प्लस टू कामेश्वर उच्च विद्यालय से हाईस्कूल की शिक्षा पूरी कर वह पटना चला गया था। वहां आगे की तैयारियों के लिए रहमानी-30 में नामांकन कराया। पिछले वर्ष कोरोना संक्रमण के कारण वह गांव आ गया था। तब से गांव में रहकर ही तैयारी कर रहा था। घर पर पढ़ाई में किसी प्रकार की समस्या ना हो, इसलिए उसने बगल में ही अपने लिए एक अलग से किराए का कमरा ले लिया था। जेया बेलाल का किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना वर्ष 2020 की परीक्षा में भी ऑल इंडिया रैंक 315 आया था। जबकि, जेईई एडवांस 2021 की परीक्षा में ऑल इंडिया रैंक 2937 तथा ओबीसी एनसीएल रैंक 465 आया था।

आगे पढ़ें: खगड़िया का फर्जी दारोगा गिरफ्तार, थानेदार से लेकर SP तक किसी को नहीं लगी भनक

जेया बेलाल के पिता मसूद आलम अंसारी का निधन 10 साल पहले हो गया था। तब से बेलाल के चाचा मो. अनस अंसारी व बड़े भाई मो. अब्दुल्लाह जो गोवाहाटी में कार्यरत है, की देखरेख में ही उसकी आगे की पढ़ाई जारी रही। जेया बेलाल तीन भाई व दो बहनों में सबसे छोटा है। बड़ा भाई मो. अब्दुल्ला गुवाहाटी में इंजीनियर है तो मंझला भाई मो. ईकबाल गांव में ही नियोजित शिक्षक के पद पर कार्यरत है। दोनों बहनों की शादी हो चुकी है।

आगे पढ़ें: पाटलिपुत्र विवि में 384 पदों पर अतिथि शिक्षकों की होगी बहाली, इंटरव्यू की तिथि हुई घोषित

अपनी सफलता का श्रेय जेया बेलाल ने अपने स्वजनों सहित रहमानी-30 के अपने मार्गदर्शकों को दिया है। अप्रत्याशित सफलता पर उसके चाचा अनस अंसारी, जीजा जियाउर रहमान, महमूद आलम, उमर अंसारी, प्रखंड विकास पदाधिकारी डॉ. अभिजीत चौधरी, सीओ नंदन कुमार, प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी जगदानंद चौधरी, पंडौल थानाध्यक्ष शंकर शरण दास, सकरी थानाध्यक्ष उमेश कुमार पासवान, पंडौल मध्य पंचायत की नवनिर्वाचित मुखिया शिखा सिन्हा, नवनिर्वाचित जिप सदस्य राही कुमारी सहित अन्य लोगों ने बधाई देते हुए उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं दी है।

 

By Biharkhabre Team

मेरा नाम शाईना है। मैं बिहार के भागलपुर कि रहने बाली हूं। मैंने भागलपुर से MBA की पढ़ाई कंप्लीट की हूं। मैं Reliance में कुछ समय काम करने के बाद मैंने अपना खुद का एक ब्लॉग बनाया। जिसका नाम बिहार खबरें हैं, और इस पर मैंने देश-दुनिया से जुड़े अलग-अलग विषय में लिखना शुरू किया। मैं प्रतिदिन देश दुनिया से जुड़े अलग-अलग जानकारी अपने Blog पर Publish करती हूं। मुझे देश दुनिया के बारे में नई नई जानकारी लिखना पसंद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.