बिहार खबरें

uttarakhand glacier flood: उत्तराखंड के चमौली जिले में रविवार को हुई घटना से बिहार के लिए भी चिंता बन गई है। जोशीमठ में ग्लेशियर टूटने की वजह से आई बाढ़ में पटना के रानीतलाब थाना के निसरपुरा गांव निवासी स्व. मदन मोहन सिंह के पुत्र इंजीनियर मनीष कुमार भी लापता हैं। मनीष उत्तराखंड के जोशी मठ के समीप एक निजी कंपनी में कार्यरत हैं। हादसे के समय मनीष घटनास्थल के आसपास ही काम कर रहे थे। उनकी कंपनी के कर्मचारी भी यही कह रहे हैं। 28 वर्षीय मनीष कुमार के ग्लेशियर हादसे में लापता होने की सूचना उनके परिजनों को बीती देर रात कंपनी की ओर से मिली।

uttarakhand glacier flood

यह सुनते ही घर वालों के होश उड़ गए। आनन-फानन में परिजन वो उनकी खोजबीन के लिए हरिद्वार रवाना हो गए हैं। उनके परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। उत्तराखंड सरकार और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से उनके परिवार के लोगों ने गुहार लगाई है और कहा है कि जल्द से जल्द मुख्यमंत्री हमारे भाई मनीष कुमार के बारे में कोई सूचना दें।

आगे पढ़ें: नीतीश कैबिनेट का विस्तार, भाजपा के नौ और जदयू के आठ नेताओं ने ली शपथ, आइए जानते हैं किसको कौन सा विभाग मिला

इंजीनियर मनीष की 2 महीने पहले हुई थी शादी

uttarakhand glacier flood

इंजीनियर मनीष कुमार दो भाई में छोटा था। पिता का स्वर्गवास हो चुका है। मनीष की दो माह पूर्व नौबतपुर के चेसी में धूमधाम से शादी हुई थी। विवाह के बाद मनीष वापस उत्तराखंड लौट गए थे। अकसर स्वजनों से फोन पर बात करते थे। घटना की सूचना मिलने पर मां बार-बार मनीष के मोबाइल पर बार-बार फोन कर रही हैं। मोबाइल ऑफ बताने पर कंपनी के कर्मियों से संपर्क कर मनीष का खबर लेना चाह रही हैं, हालांकि कंपनी के कर्मचारी भी यही कह रहे हैं कि रेस्क्यू किया जा रहा है। मनीष के टर्मिनल में फंसे होने की सूचना है।

आगे पढ़ें: बिहार में सभी मरीजों को अस्‍पताल जाने के लिए मिलेंगे फ्री एंबुलेंस सेवा, आइए जानते हैं इसकी शर्तें

uttarakhand glacier flood सीेएम नीतीश ने ट्वीट कर चिंता जताई

बता दें कि उत्तराखंड ग्लेशियर हादसे पर CM नीतीश ने ट्वीट कर चिंता जताई है और आपदा की इस घड़ी में पूरे बिहार के उत्तराखंड के लोगों के साथ होने की बात कही है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि उत्तराखंड आपदा में फंसे लोगों और राहत और बचाव कार्यों में लगे लोगों के लिए प्रार्थना। इस आपदा में पूरा बिहार उत्तराखंड के लोगों के साथ है। हमारे अधिकारी उत्तराखंड मुख्यमंत्री कार्यालय के सम्पर्क में हैं।

आगे पढ़े: बिहार में विरोध प्रदर्शन करने वाले को नहीं मिलेगी सरकारी नौकरी, नीतीश कुमार का नया फरमान

परिजनों का रो-रोकर कर बुरा हाल

uttarakhand glacier flood

ग्लेशियर हादसे की सूचना मिलने के बाद से ही रानीतालब थाने के निसरपुरा गांव में मातम पसरा है। वहीं, परिजनों का रो रोकर बुरा हाल हो गया है। आसपड़ोस के लोग परिवार वालों को ढाढस बंधाने में जुटे है। लोगों को आशा बंधा रहे हैं कि मनीष सकुशल होंगे और जल्द ही उनकी कुशलता की खबर घर तक पहुंचेगी। उधर कुशलता की सूचना मिलने में हो रही देरी से परिजनों की आशा धूमिल होती जा रही है।

 

By Biharkhabre Team

मेरा नाम शाईना है। मैं बिहार के भागलपुर कि रहने बाली हूं। मैंने भागलपुर से MBA की पढ़ाई कंप्लीट की हूं। मैं Reliance में कुछ समय काम करने के बाद मैंने अपना खुद का एक ब्लॉग बनाया। जिसका नाम बिहार खबरें हैं, और इस पर मैंने देश-दुनिया से जुड़े अलग-अलग विषय में लिखना शुरू किया। मैं प्रतिदिन देश दुनिया से जुड़े अलग-अलग जानकारी अपने Blog पर Publish करती हूं। मुझे देश दुनिया के बारे में नई नई जानकारी लिखना पसंद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *