बिहार खबरें

पटना: बिहार में इन्वेस्टिगेशन सेल में जांच की कमान संभालेंगे रिटायर्ड पुलिस अफसर । बड़े आपराधिक मामलों की जांच में सहयोग के लिए बनाया गया अनुसंधान निगरानी कोषांग यानी इन्वेस्टिगेशन मानीटरिंग सेल जल्द अपना काम शुरू करेगा। राज्य मुख्यालय स्तर पर बनाए जाने वाले मानीटरिंग सेल के लिए पुलिस मुख्यालय रिटायर्ड पुलिस पदाधिकारियों व कर्मियों की सेवा लेगा। गृह विभाग ने समीक्षा बैठक में इस बाबत निर्देश दिया है।

बिहार में इन्वेस्टिगेशन सेल में जांच की कमान संभालेंगे रिटायर्ड पुलिस अफसर

अपर मुख्य सचिव की ओर से दिए आदेश में कहा गया है कि इन्वेस्टिगेशन सेल के रिक्त पदों पर सेवानिवृत्त अवर निरीक्षक एवं सहायक अवर निरीक्षक स्तर के पदाधिकारी का पुनर्नियोजन किया जाए। पदाधिकारियों, सहायकों एवं अन्य कर्मियों की सीधी नियुक्ति या पदस्थापन होने तक रिक्त पदों पर सेवानिवृत्त पदाधिकारियों एवं सहायकों के पुनर्नियोजन की विवरणी तैयार कर सामान्य प्रशासन विभाग को अधियाचना भेजने का निर्देश दिया गया है।

बिहार में इन्वेस्टिगेशन सेल में जांच की कमान संभालेंगे रिटायर्ड पुलिस अफसर,  69 पदों पर स्वीकृति

इंवेस्टिगेशन मानीटरिंग सेल (आइएमसी) के लिए गृह विभाग ने 69 पदों की स्वीकृति मिली है। इसका नेतृत्व पुलिस अधीक्षक करेंगे। उनके साथ सात डीएसपी, 13 पुलिस इंस्पेक्टर, आठ आशु सहायक अवर निरीक्षक, 21 कंप्यूटर संचालक, 11 सिपाही एवं आठ चालक सिपाही होंगे।

बिहार में इन्वेस्टिगेशन सेल में जांच की कमान संभालेंगे रिटायर्ड पुलिस अफसर

टीम के गठन के साथ ही अनुसंधान निगरानी कोषांग की जवाबदेही भी तय कर दी गई है। अनुसंधान निगरानी कोषांग के तहत पटना रेंज को एक डीएसपी मिला है। इसके अलावा प्रत्येक दो रेंज पर एक डीएसपी को जवाबदेही दी गई है। सभी डीएसपी के काम की निगरानी सीनियर एसपी रैंक के अधिकारी करेंगे।

आगे पढ़ें: कपिल शर्मा के शो में नजर आएंगे तेजप्रताप यादव, कहा फ्लाइट का टिकट भेजते हैं तो गेस्ट बनने के लिए हूं तैयार

इन्वेस्टिगेशन सेल आपराधिक मामलों की जांच में कानूनी सलाह देने के साथ फारेंसिक जांच जैसी सुविधाएं भी मुहैया कराएगा। इसके गठन का उद्देश्य अंतरराज्यीय, अंतरजिला या अन्य बड़े मामलों की जांच समय-सीमा के अंदर पूरा कराना भी है।

आगे पढ़ें: हाजीपुर में सनकी पति ने थाने में ही ब्लेड से पत्नी का गला रेता, पुलिस और परिवार हो गए हैरान

अभी लंबित व बड़े मामलों के निबटारे के लिए थाना स्तर पर विशेष अनुसंधान इकाई और जिला स्तर पर विशेष अनुसंधान कोषांग का गठन किया गया है। इन दोनों के ही कामों की निगरानी व जरूरत के अनुसार सहयोग के लिए सेल का गठन किया गया है।

 

By Biharkhabre Team

मेरा नाम शाईना है। मैं बिहार के भागलपुर कि रहने बाली हूं। मैंने भागलपुर से MBA की पढ़ाई कंप्लीट की हूं। मैं Reliance में कुछ समय काम करने के बाद मैंने अपना खुद का एक ब्लॉग बनाया। जिसका नाम बिहार खबरें हैं, और इस पर मैंने देश-दुनिया से जुड़े अलग-अलग विषय में लिखना शुरू किया। मैं प्रतिदिन देश दुनिया से जुड़े अलग-अलग जानकारी अपने Blog पर Publish करती हूं। मुझे देश दुनिया के बारे में नई नई जानकारी लिखना पसंद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.