बिहार खबरें

Muzaffarpur Cylinder Blast: मीनापुर थाना क्षेत्र के नंदना गांव में सिलेंडर विस्फोट में तीन बच्चों की मौत के बाद उनकी मां ने भी देर रात दम तोड़ दिया। मृत महिला की पहचान अशोक साह की पत्नी शोभा देवी (27) जबकि मृत बच्चों की पहचान दीपांजलि कुमारी (6), आदित्य, (4) और विवेक (2) के रूप में हुई है। पोस्टमॉर्टम के बाद चारों शव परिजन के हवाले कर दिए जाएंगे। अस्पताल पहुंची मृत की सास सामरिया देवी ने बताया कि उसका बेटा अशोक साह दिल्ली में काम करता है। वह घर के लिए निकल चुका है। परिवार में पोत-पोतियों और बहू की मौत के बाद सामरिया देवी की भी हालत खराब थी। वह बार-बार बेसुध हो रही थी।

Muzaffarpur Cylinder Blast

गैस का पाइप लीक होने से हुआ हादसा

घटना के संबंध में बताया जाता है कि शोभा देवी अपने बच्चों के लिए दूध उबालने के लिए रसोई में गई थी। इसी दौरान गैस पाइप में आग लग गई और सिलेंडर फट गया। आनन-फानन में स्थानीय लोगों ने सबको मीनापुर अस्पताल में भर्ती कराया जहां से प्राथमिक उपचार के बाद सबको एसकेएमसीएच रेफर कर दिया गया। एसकेएमसीएच ले जाने के दौरान ही एक बच्चे की मौत हो गई। वहीं, दो अन्य बच्चों की इलाज के दौरान एसकेएमसीएच में मौत हो गई। महिला देर रात तक जिंदगी और मौत से लड़ रही थी। मंगलवार की सुबह उसकी जान चली गई।

Muzaffarpur Cylinder Blast सास सोमरिया देवी ने कहा, हम सब्जी लेबे गेल रही 

सास सोमरिया देवी ने कहा, “सांझ में हमरा पूतोह कहलक की हाट चल जाऊ। सब्जी कुछो ले लेम। हमरा जायके मन न रहे। पोता साथे खेलैत रही, लेकिन पूतोह दु बार कहलक। तब झोला लेके हम चल गेली। हुआं से अएली त देखली की घर जरैत है। पूतोह-पोता पोती सब के देह में आग लागल है। करेजा पिटे लगली। लोग सब हमरा पकड़ लेलक। ओकरा बाद हॉस्पिटल में लायल गेल। इहां पर तीनों बच्चा मर गेलइ’।

Muzaffarpur Cylinder Blast

“शाम में पतोहू ने कहा कि हाट जाकर सब्जी ले आओ। मेरा जाने का मन नहीं था, पोते के साथ खेल रही थी, लेकिन पतोहू ने दो बार कहा तो मैं झोला ले कर गई। वहां से लौटा तो देखा कि घर जल रहा है। पतोहू और पोता-पोती सब जल गए हैं। मैं छाती पीटने लगी। लोगों ने मुझे पकड़ लिया। उसके बाद हॉस्पिटल में लाए, यहां तीनो बच्चों की मौत हो गई।”

आगे पढ़ें: Hindi Diwas: हिंदी दिवस कब और क्यों मनाया जाता है ? जानिए इसका इतिहास और महत्व

रिश्तेदार विजय साह ने बताया कि बच्चों के शरीर से आग बुझाने का काफी प्रयास किया गया, लेकिन उन्होंने पॉलिस्टर से बने कपड़े पहने थे। आग लगने के कारण कपड़ा शरीर में चिपक गया। कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया, लेकिन तब तक बच्चे पूरी तरह जल चुके थे। डॉक्टर का कहना है कि कभी भी बच्चों या किसी को भी पॉलिस्टर वाले कपड़े न पहनाएं। यह आग को तेजी से पकड़ता है। पकड़ने से बाद बुझाना भी मुश्किल होता है।

दिल्ली रहकर मजदूरी करता है मृतिका का पति

Muzaffarpur Cylinder Blast

ग्रामीणों ने बताया कि उन्हें अचानक किसी चीज के फटने की आवाज सुनाई दी। इसके बाद स्थानीय लोग इकट्ठा हो गए। तब जाकर पता चला कि सिलेंडर ब्लास्ट हुआ है। बताया जाता है कि शोभा का पति अशोक साह दिल्ली में मजदूरी करता है। उसी की कमाई से घर चलता है। घटना के बाद अशोक शाह को इसकी सूचना दे दी गई है। खबर सुनने के बाद वह भी दिल्ली से आ रहा है।

By Biharkhabre Team

मेरा नाम शाईना है। मैं बिहार के भागलपुर कि रहने बाली हूं। मैंने भागलपुर से MBA की पढ़ाई कंप्लीट की हूं। मैं Reliance में कुछ समय काम करने के बाद मैंने अपना खुद का एक ब्लॉग बनाया। जिसका नाम बिहार खबरें हैं, और इस पर मैंने देश-दुनिया से जुड़े अलग-अलग विषय में लिखना शुरू किया। मैं प्रतिदिन देश दुनिया से जुड़े अलग-अलग जानकारी अपने Blog पर Publish करती हूं। मुझे देश दुनिया के बारे में नई नई जानकारी लिखना पसंद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.