बिहार खबरें

कृषि विश्वविद्यालय (बीएयू) में वर्ष 2012 से 13 के दौरान हुए नियुक्ति घोटाले में तत्कालीन वीसी और वर्तमान में मंत्री बनाए गए। मेवालाल चौधरी पर लगे आरोप सही पाए गए थे। धांधली का आरोप झेल रहे मेवालाल को राज्य के शिक्षा विभाग की अहम जिम्मेदारी भी सौंपी गई। वहीं राजद ने इस मुद्दे पर नीतीश कुमार को घेर लिया है। पार्टी नेता तेजस्वी यादव ने मेवालाल को मंत्री बनाए जाने को भ्रष्टाचारयों को पुरस्कृत करने जैसे करार दिया।

तेजस्वी यादव ने ट्वीट किया

तेजस्वी यादव ने ट्वीट में लिखा “मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने असिस्टेंट प्रोफेसर की नियुक्ति और भवन निर्माण में भ्रष्टाचार के गंभीर मामलों में आईपीसी 420 467 468 471 और 120 B के तहत आरोपी मेवालाल चौधरी को शिक्षा मंत्री बनाकर क्या भ्रष्टाचार करने का इनाम एवं लूटने की खुली छूट प्रदान की है।”

बता दें कि इससे पहले राष्ट्रीय जनता दल ने ट्वीट करके कहा था, कि जिस भ्रष्टाचारी जेडीयू विधायक को सुशील मोदी खोज रहे थे। उसे नीतीश कुमार ने मंत्री पद से नवाजा। वहीं बिहार के नए शिक्षा मंत्री से पूछताछ के लिए पूर्व आईपीसी अमिताभ दास ने डीजीपी एसके सिंघल को चिट्ठी लिखी।

भ्रष्टाचार का मामला

बिहार कृषि विश्वविद्यालय में वर्ष 2012 से 13 में लगभग 160 सहायक प्राध्यापक व कनीय वैज्ञानिकों की नियुक्ति में अनियमितता बरती गई थी। बहाली के लिए चयन समिति के अध्यक्ष व तत्कालीन कुलपति मेवालाल चौधरी ने राजभजन वर्मा को ऑफिसर इंचार्ज नियुक्त और अमित कुमार को सहायक निदेशक बनाया था। आरोप लगा था, कि दोनों बहाली में धांधली की और पास अभ्यर्थियों को फेल कर वेबसाइट पर रिजल्ट जारी कर दिया था।

पत्नी की मौत के मामले में पूछताछ

वहीं पूर्व आईपीएस अधिकारी अमिताभ दास ने डीजीपी को लिखे अपने पत्र में मेवालाल चौधरी की पत्नी की मौत के मामले में भी पूछताछ की मांग की, मेवालाल चौधरी की पत्नी स्वर्गीय नीता चौधरी  राजनीति में काफी सक्रिय रही थी। नीता चौधरी 2010 से 2015 तक तारापुर से विधायक थी। नीता चौधरी की मौत की जांच के लिए मुंगेर के तारापुर थाने को फोन किया तो थानेदार ने बताया कि 27 मई 2019 को मेवा लाल की पत्नी नीता चौधरी किचन में थी। इसी दौरान आग लगने से बुरी तरह झुलस गई। 2 जून को उनकी मौत हो गई। पत्नी को बचाने के चक्कर में मेवा लाल का हाथ भी बुरी तरह झुलस गया था।

कांग्रेस ने भी ट्वीट कर उठाए सवाल

कांग्रेस नेता प्रेमचंद्र मिश्रा ने भी डाँ मेवालाल चौधरी को मंत्री बनाए जाने पर सवाल उठाया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा मेवालाल जैसे को शिक्षा मंत्री बनाकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी ने अपनी छवि को खुद ही धूमिल कर राजनीतिक प्रतिष्ठा को हल्का बना दिया।

By Biharkhabre Team

मेरा नाम शाईना है। मैं बिहार के भागलपुर कि रहने बाली हूं। मैंने भागलपुर से MBA की पढ़ाई कंप्लीट की हूं। मैं Reliance में कुछ समय काम करने के बाद मैंने अपना खुद का एक ब्लॉग बनाया। जिसका नाम बिहार खबरें हैं, और इस पर मैंने देश-दुनिया से जुड़े अलग-अलग विषय में लिखना शुरू किया। मैं प्रतिदिन देश दुनिया से जुड़े अलग-अलग जानकारी अपने Blog पर Publish करती हूं। मुझे देश दुनिया के बारे में नई नई जानकारी लिखना पसंद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *