बिहार खबरें

दरभंगा: बिहार के दरभंगा में ट्रेनी महिला दारोगा ने सर्विस रिवॉल्वर से खुद को मारी गोली । पुलिस के साथ मौके पर पहुंची सिटी एसपी ने इसकी पुष्टि की है। हालांकि घटनास्थल से पुलिस को कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। परिजनों ने हत्या का आरोप लगाया है और उच्च स्तरीय जांच की मांग की है। 2018 बैच की महिला दरोगा का नाम लक्ष्मी कुमारी बताया जा रहा है, जो दरभंगा जिले के ललित नारायण मिथिला यूनिवर्सिटी थाने में तैनात थी। लक्ष्मी कुमारी ने देर रात खुद को अपने सर्विस रिवाल्वर से सर में गोली मार कर आत्महत्या कर ली।

दरभंगा में ट्रेनी महिला दारोगा ने सर्विस रिवॉल्वर से खुद को मारी गोली

दरभंगा में महिला दारोगा ने सर्विस रिवॉल्वर से खुद को मारी गोली

मीडिया से परिजनों ने कहा कि लक्ष्मी आत्महत्या नहीं कर सकती है। उसे किसी साजिश के तहत मारा गया है। हालांकि लक्ष्मी के परिजनों ने पुलिस को इस बारे में कोई बयान नहीं दिया है। लक्ष्मी 2017-18 बैच की दारोगा थी। वह सुपौल शहर के कचहरी रोड वार्ड 11 निवासी त्रिलोक प्रसाद साह की बेटी थीं। घटना के कारणों का फिलहाल खुलासा नहीं हो पाया है। शुक्रवार की सुबह घटना की जानकारी मिलते ही सिटी एसपी अशोक प्रसाद, सदर एसडीपीओ कृष्ण नंदन प्रसाद, विवि थाना प्रभारी सत्य प्रकाश झा व अन्य थानों के पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे और छानबीन शुरू कर दी।

परिजन ने जांच की मांग की

दरभंगा एसपी ने बताया कि लक्ष्मी कुमारी काफी कर्मठ पदाधिकारी थी और हमेशा खुश रहती थी। अब परिवारवालों से बात करने के बाद ही पता चलेगा कि कही कोई दबाव था या और कोई बात थी। वहीं मौके पर पहुंचे मृतक लक्ष्मी कुमारी के रिश्तेदार यह मैंने को को तैयार है कि उनकी बहन ने आत्महत्या की है। परिजन पुलिस की थ्योरी को सीधे-सीधे नकारते हुए इसे हत्या बताया। हालांकि हत्या के पीछे का कारण इन्होंने कुछ नहीं बताया लेकिन पुलिस से उच्च स्तरीय जांच की मांग जरूर की। इसके अलावा उन्होंने कई सवाल भी खड़े किए।

आगे पढ़ें: बिहार: गोपालगंज में कोर्ट जा रहे वकील को दिनदहाड़े गोलियों से भूना, मौके पर हुई मौत

उन्होंने बताया कि आखिर देर रात जब गोली कमरे के अंदर चली तो घटना की जानकारी लोगों को सुबह क्यों लगी, जबकि बगल के कमरे में और भी पुलिस कर्मी मौजूद थे। दूसरा परिवार वालों को भी सूचना विलंब से क्यों दी गई, तीसरा फोरेंसिक टीम के आने से पहले शव के पास से कई सामानों को इधर-उधर कर क्यों हटाया गया। इसके अलावा सबसे महत्वपूर्ण सवाल लक्ष्मी हमेशा खुश रहती थी और आगे बड़े अधिकारी बनने की अभिलाषा रखती थी। यही वजह है कि नौकरी करते हुए समय निकाल लगन से पढ़ाई कर BPSC की तैयारी भी कर रही थी। ऐसे में अचानक ऐसी घटना कई सवाल खड़े कर रहे हैं।

 

By Biharkhabre Team

मेरा नाम शाईना है। मैं बिहार के भागलपुर कि रहने बाली हूं। मैंने भागलपुर से MBA की पढ़ाई कंप्लीट की हूं। मैं Reliance में कुछ समय काम करने के बाद मैंने अपना खुद का एक ब्लॉग बनाया। जिसका नाम बिहार खबरें हैं, और इस पर मैंने देश-दुनिया से जुड़े अलग-अलग विषय में लिखना शुरू किया। मैं प्रतिदिन देश दुनिया से जुड़े अलग-अलग जानकारी अपने Blog पर Publish करती हूं। मुझे देश दुनिया के बारे में नई नई जानकारी लिखना पसंद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.