बिहार खबरें

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शनिवार को एक बार फिर बिहार में कानून व्यवस्था को लेकर समीक्षा बैठक कर रही हैं। मिली जानकारी के अनुसार समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री ने पुलिस अधिकारियों को क्राइम कंट्रोल के लिए पूरी मजबूती से काम करने का निर्देश दिया है। CM नीतीश कुमार ने सख्त निर्देश दिया। जिन थाना क्षेत्रों में अपराध बढ़े हैं। उनकी समीक्षा करके संबंधित अधिकारियों पर सख्त कार्रवाई करें।

CM नीतीश कुमार सख्त

कोताही बरतने वाले अधिकारियों को चिन्हित कर उन्हें दंडित करें। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को साफ तौर पर हिदायत दी कि अपराध नियंत्रण में कोताही किसी कीमत पर बर्दाश्त नहीं की जाएगी। कानून व्यवस्था के सख्त होने से राज्य में हो रहे विकास कार्यों का वास्तविक लाभ लोगों को मिलेगा। इस बैठक में सीएम द्वारा दिए गए कुछ मुख्य निर्देश

  • रात्रि गश्ती के साथ-साथ नियमित गश्ती भी अनिवार्य रूप से करें।
  • ओवरलोडिंग और ट्रैफिक जाम को रोकने के लिए प्रभावी कदम उठाएं।
  •  शराबबंदी का सख्ती से पालन करें। धंधे वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करें।
  •  भूमि विवाद के समाधान के लिए सभी संबंधित अधिकारी नियमित रूप से बैठक करें।
  • महिलाओं की सुरक्षा पर विशेष नजर रखें। उनके खिलाफ हो रहे अपराध में संलिप्त लोगों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई करें।

हर थाने का लैंडलाइन टेलीफोन सही करें

मुख्यमंत्री ने खासतौर से निर्देश दिया कि सभी थानों में लैंडलाइन टेलीफोन हर हाल में दुरुस्त रखें। मुख्यालय स्तर पर नियमित रूप से लैंडलाइन फोन पर बात कर थाने की गतिविधियों की जानकारी लेते रहे। सभी जोन में क्षेत्रीय विधि विज्ञान प्रयोगशाला का क्रियान्वयन सुचारू रूप से हो।https://www.biharkhabre.com/चिकित्सक-की-हत्या-छपरा-मे/

CM नीतीश कुमार बुधवार को भी मीटिंग किए थे

CM नीतीश कुमार से पहले बुधवार को भी क्राइम कंट्रोल के लिए समीक्षा बैठक कर रहे थे। लेकिन ठीक उसी दौरान सुबह के 10:30 बजे के करीब दरभंगा के एक बड़े ज्वेलरी शॉप में डकैती हो गई थी। दिनदहाड़े भरे बाजार हुई इस डकैती में सात करोड़ रुपए के जेवर समेत दो लाख नकद भी चले गए थे। मीटिंग के दौरान सीएम को घटना की जानकारी मिली तो उन्हें अधिकारियों की क्लास लगा दी।

रात्रि गश्ती अनिवार्य

CM नीतीश कुमार ने सख्त निर्देश दिया और पुलिस अधिकारियों से कहा कि सभी थाना क्षेत्रों में नियमित रूप से रात्रि गश्ती को सुनिश्चित करें। पैदल गश्ती दल में भी पर्याप्त पुलिस बल रखें। जिओ फेसिंग तकनीक से गश्ती दल की निगरानी सुनिश्चित करें। सीनियर अफसर भी गश्ती की निगरानी करें। राज्य सभी थानों में जीपीएस युक्त दो दो वाहन गश्ती की निगरानी करें।

By Biharkhabre Team

मेरा नाम शाईना है। मैं बिहार के भागलपुर कि रहने बाली हूं। मैंने भागलपुर से MBA की पढ़ाई कंप्लीट की हूं। मैं Reliance में कुछ समय काम करने के बाद मैंने अपना खुद का एक ब्लॉग बनाया। जिसका नाम बिहार खबरें हैं, और इस पर मैंने देश-दुनिया से जुड़े अलग-अलग विषय में लिखना शुरू किया। मैं प्रतिदिन देश दुनिया से जुड़े अलग-अलग जानकारी अपने Blog पर Publish करती हूं। मुझे देश दुनिया के बारे में नई नई जानकारी लिखना पसंद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *