बिहार खबरें

बिहार सरकार में मंत्रिमंडल विस्तार के बाद CM नीतीश कुमार दिल्ली के लिए हुए रवाना दो दिन तक वे दिल्ली में रहेंगे। इस दौरान पीएम नरेंद्र मोदी से मुलाकात करेंगे। बिहार में सरकार बनने के बाद पीएम मोदी के साथ सीएम नीतीश कुमार की यह पहली मुलाकात होगी। केंद्र में होने वाले मंत्रिमंडल विस्तार के लिए यह मुलाकात खास है। CM नीतीश कुमार अब केंद्रीय नेतृत्व पर मंत्रिमंडल विस्तार में JDU की आनुपातिक हिस्सेदारी की शर्त को पूरा करने का दबाव बना सकते हैं।

CM नीतीश कुमार दिल्ली के लिए हुए रवाना

इससे पहले मंगलवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि जब भी मंत्रिपरिषद का गठन होता है तो हर क्षेत्र और समाज के सभी तबके के प्रतिनिधित्व का ध्यान रखा जाता है। हमारी कोशिश होती है कि लगभग सभी क्षेत्र के लोगों का प्रतिनिधित्व हो। मंत्रिमंडल में मंत्रियों की संख्या सीमित होती है। हमारा प्रयास होता है कि मंत्रिमंडल में व्यापक रूप में सभी क्षेत्र के लोगों की भूमिका रहे।

आगे पढ़ें: नीतीश कैबिनेट का विस्तार, भाजपा के नौ और जदयू के आठ नेताओं ने ली शपथ, आइए जानते हैं किसको कौन सा विभाग मिला

शाहनवाज हुसैन को सौपी गई उद्योग विभाग की जिम्मेदारी

मालूम हो कि बीजेपी की ओर से विधान परिषद के सदस्य शाहनवाज हुसैन को मंत्री बनाने के बाद उन्हें उद्योग विभाग की जिम्मेदारी सौंपी गई है। वहीं, संजय झा को जल संसाधन और सूचना-जनसंपर्क तो वहीं सम्राट चौधरी को पंचायती राज की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

CM नीतीश कुमार दिल्ली के लिए हुए रवाना

बता दें कि मंत्रिमंडल विस्तार के बाद बिहार कैबिनेट में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सहित 31 मंत्री हो गए। मौजूदा मंत्रियों में जदयू कोटे से सीएम सहित कुल 13 मंत्री मंत्रिमंडल के सदस्य हो गए। वहीं, एनडीए में सबसे बड़े घटक दल होने के कारण सबसे अधिक संख्या 16  भाजपा कोटे के मंत्रियों की हो गई। एनडीए के अन्य घटक दल हम और वीआईपी कोटे से एक-एक मंत्री हैं।

आगे पढ़े: Bihar SHSB Recruitment Online Form 2021: बिहार स्वास्थ्य विभाग की ओर से मेडिकल लैब टेक्निशियन के 222 पदों पर भर्ती, ऐसे करें आवेदन

CM नीतीश कुमार दिल्ली के लिए हुए रवाना मंत्रिमंडल विस्तार देरी कि ये बजह

बिहार में मंत्रिमंडल विस्तार में हुई देरी की यह भी एक वजह थी। सीएम नीतीश कुमार ने भाजपा के सामने शर्त रखी थी कि केंद्र में मंत्रिमंडल विस्तार में JDU को आनुपातिक हिस्सेदारी मिलनी चाहिए। भाजपा की ओर से हरी झंडी मिलने के बाद ही बिहार में मंत्रिमंडल का विस्तार हुआ। इससे पहले केंद्रीय मंत्रिमंडल के विस्तार में JDU को BJP सांकेतिक अनुपात ही देना चाहती थी। आनुपातिक हिस्सेदारी के मुताबिक JDU को केंद्र सरकार में दो कैबिनेट मंत्री और एक राज्यमंत्री चाहिए।

By Biharkhabre Team

मेरा नाम शाईना है। मैं बिहार के भागलपुर कि रहने बाली हूं। मैंने भागलपुर से MBA की पढ़ाई कंप्लीट की हूं। मैं Reliance में कुछ समय काम करने के बाद मैंने अपना खुद का एक ब्लॉग बनाया। जिसका नाम बिहार खबरें हैं, और इस पर मैंने देश-दुनिया से जुड़े अलग-अलग विषय में लिखना शुरू किया। मैं प्रतिदिन देश दुनिया से जुड़े अलग-अलग जानकारी अपने Blog पर Publish करती हूं। मुझे देश दुनिया के बारे में नई नई जानकारी लिखना पसंद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *