बिहार खबरें

आरा: बिहार लोक सेवा आयोग यानी बीपीएससी (BPSC Results) ने बुधवार को 65वीं मेंस परीक्षा का रिजल्ट जारी (BPSC 65th Mains Exam Result) कर दिया। बीपीएससी मेंस परीक्षा में 1100 से अधिक अभ्यर्थियों ने बाजी मारी है। रिजल्ट जारी होने के बाद जहां पास हुए अभ्यर्थियों के घर खुशी का माहौल है, वहीं एक ऐसा भी अभ्यर्थी है जिसके घर रिजल्ट आने के बाद मानो आंसुओं का सैलाब फूट पड़ा है।

BPSC 65th Mains Exam Result

भोजपुर के पीरो प्रखंड के बैसाडीह गांव निवासी युवा इंजीनियर अविनाश कुमार के सपनों को पंख नहीं लग सके। इसे दु:खद संयोग कहा जाये या ईश्वरीय कृपा कि बुधवार की शाम बीपीएससी मेंस का रिजल्ट निकलने से महज छह दिन पहले ही मौत ने अविनाश को गले लगा लिया था।

आगे पढ़ें: फ्रांस में चंडीगढ़ के हेरिटेज फर्नीचर की होगी नीलामी, इन 3 चीजों की कीमत करोड़ों में

अविनाश के बीपीएससी मेंस के रिजल्ट को देखकर उसके पिता विजय शंकर उपाध्याय और चाचा निलेश उपाध्याय समेत समस्त परिजन फूट-फूटकर रो पड़े। बता दें कि पीरो प्रखंड के बैसाडीह गांव निवासी किसान विजय शंकर उपाध्याय के दो पुत्रों में अविनाश कुमार दूसरे पुत्र थे। अविनाश के बड़े भाई अभिषेक उपाध्याय रेलवे में ड्राइवर हैं।

BPSC 65th Mains Exam Result अविनाश बचपन से ही मेधावी थे 

BPSC 65th Mains Exam Result

25 दिसंबर 1991 को जन्मे अविनाश बचपन से मेधावी थे। इन्होंने भोपाल टीआइटी से इलेक्ट्रॉनिक कम्युनिकेशन से बीटेक किया था। इंजीनियरिंग की फाइनल परीक्षा में स्टेट में वे सेकंड टापर बने थे। अविनाश के चाचा नीलेश उपाध्याय ने बताया कि कैंपस सेलेक्शन में अच्छा पैकेज मिलने के बावजूद अविनाश ने नौकरी नहीं की थी। उन्होंने सिविल सर्विसेज की तैयारी शुरू की थी। सिविल सर्विस में जाकर लोगों की सेवा करने का जूनून उसपर सवार था। लेकिन पीएससी मेंस में बाजी मारने के बावजूद भी अविनाश अपने सपने को पूरा नहीं कर सका। क्योंकि, कोरोना ने उसकी सांसे छीन ली। बीते 24 जून को इलाज के क्रम में उनकी मौत आरा शहर के निजी अस्पताल में हो गई गईं थी।

आगे पढ़ें: पटना में मिनी गन फैक्टरी का हुआ खुलासा, एसटीएफ ने छह हथियार तस्करों को किया गिरफ्तार

चाचा ने कहा कि उनके परिवार ने एक चमकता सितारा को जगमगाने से पहले खो दिया।अविनाश के मित्र निशि कांत राय कहा कि पिछले लगभग सवा महीने से लगातार हम उसके ठीक होने की उम्मीद कर रहे थे । अपने स्तर से प्रयास भी किया। लेकिन,सारे प्रयासों पर एक झटके में पानी फि‍र गया। पढ़ाई के समय ही अच्छी नौकरी का ऑफर मिला था लेकिन उसे स्वीकार नहीं कर यूपीएससी की तैयारी करने दिल्ली चला गया था। मुखर्जी नगर में रहते हुए ही कोरोना से संक्रमित हो गया था

 

By Biharkhabre Team

मेरा नाम शाईना है। मैं बिहार के भागलपुर कि रहने बाली हूं। मैंने भागलपुर से MBA की पढ़ाई कंप्लीट की हूं। मैं Reliance में कुछ समय काम करने के बाद मैंने अपना खुद का एक ब्लॉग बनाया। जिसका नाम बिहार खबरें हैं, और इस पर मैंने देश-दुनिया से जुड़े अलग-अलग विषय में लिखना शुरू किया। मैं प्रतिदिन देश दुनिया से जुड़े अलग-अलग जानकारी अपने Blog पर Publish करती हूं। मुझे देश दुनिया के बारे में नई नई जानकारी लिखना पसंद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.