बिहार खबरें

बिहार: अभी पंजाब समेत कई देशों में किसानों का  जबरदस्त प्रदर्शन चल रहा है। इस किसान के प्रदर्शन के बीच बिहार के किसानों के लिए एक खुशखबरी है। बिहार चुनाव के बाद अब धान खरीदना शुरू हो गया है। सूवे के सहकारिता विभाग ने 4 हजार एजेंसियों का नाम धान खरीदने के लिए चुना है। जिसमे 72 हजार किसानों ने धान बेचने के लिए अपना निबंधन करवाया है।

4 जिलों में तो किसानों से धान खरीदना भी शुरू हो गया है। जिसके लिए सरकार द्वारा पैक्सों को पैसा भी दिया गया है। नए सरकार के बनते ही किसानों का निबंधन भी तेजी से होने लगा है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 30 लाख टन धान खरीदने का लक्ष्य रखा है। अगर 30 लाख टन धान की खरीदारी होती है। तो इससे किसान को लगभग 55 सौ करोड़ रुपए आएगा। इसके लिए सरकार ने 40 फ़ीसदी रकम के लिया मंजूरी दे दी है।

इस विभाग में धान बेचने के लिए 72 हजार किसानों ने अपना निबंधन कराया। जिसमें धान की कटनी से लेकर किसानों की रजिस्ट्रेशन का काम भी तेजी से किया गया। वहीं पिछले साल 20 हजार 226 किसानों ने निबंधन कराया था।

4 हजार एजेंसियों को मिला काम

बताया जा रहा है कि 43 हजार एजेंसियों को काम दिया गया है। जिसमें हर जिले में पैक्सों का चयन किया गया है। पैक्सो को लगभग 1120 करोड यानी 20% का ही कैश क्रेडिट मिला है। अभी तक पूरे पैसों का लिमिट इसलिए नहीं दिया गया है, कि पैक्सों को अधिक सूद नहीं देना पड़े। वही 2500 के लगभग की पैकिंग भी पोर्टल पर कर दी गई है।

भोजपुर, बक्सर, नालंदा और मुंगेर जिले की पैकिंग हो गई है। जिसमें इन जिलों के किसानों ने धान बेचा है। जिससे जिले में धान तैयार हो गया है। वहां एजेंसियां धान खरीदने की तैयारी कर रही है। सरकार 17% तक की नमी वाला धान ही खरीदती है। नमी वाले धान के किसानों को थोड़ा धान बेचने में परेशानी हो रही है।

By Biharkhabre Team

मेरा नाम शाईना है। मैं बिहार के भागलपुर कि रहने बाली हूं। मैंने भागलपुर से MBA की पढ़ाई कंप्लीट की हूं। मैं Reliance में कुछ समय काम करने के बाद मैंने अपना खुद का एक ब्लॉग बनाया। जिसका नाम बिहार खबरें हैं, और इस पर मैंने देश-दुनिया से जुड़े अलग-अलग विषय में लिखना शुरू किया। मैं प्रतिदिन देश दुनिया से जुड़े अलग-अलग जानकारी अपने Blog पर Publish करती हूं। मुझे देश दुनिया के बारे में नई नई जानकारी लिखना पसंद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *