बिहार खबरें

कोरोना के खिलाफ जंग में सबसे मजबूत हथियार वैक्सीनेशन अभियान में तेजी लाते हुए लगातार इसे ज्यादा से ज्यादा संख्या में सरकार की तरफ से वैक्सीनेट करने का प्रयास किया जा रहा है। इसी कड़ी में अमेरिकी कंपनी मॉडर्ना की तरफ से तैयार वैक्सीन इस हफ्ते भारत पहुंच सकती है। समाचार एजेंसी रायटर ने ईटी के हवाले से बताया है कि मॉडर्ना की वैक्सीन इस हफ्ते भारत आ सकती है। इसको लेकर और भी जानकारी साझा की गई है।

मॉडर्ना वैक्सीन

जानकारी के मुताबिक, मॉडर्ना की वैक्सीन 15 जुलाई तक देश के कुछ बड़े सरकारी अस्पतालों में उपलब्ध हो जाएगी। मॉडर्ना की वैक्सीन की पहली खेप में टीके के कितने डोज आएंगे, इस बारे में अभी तक जानकारी नहीं मिल सकी है। कोविशील्ड, कोवैक्सीन और रूसी वैक्सीन स्पूतनिक वी के बाद मॉडर्ना की वैक्सीन भारत में उपलब्ध होने वाली चौथी कोरोना वैक्सीन है।

आगे पढ़ें: कोरोना से रिकवरी के बाद बढ़े हुए शुगर लेवल को कंट्रोल कैसे करें, जानिए आसान घरेलू टिप्स

औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) ने सिप्ला आपात उपयोग के लिए मॉडर्ना के कोविड-19 टीके के आयात की अनुमति दे दी है। कोविशील्ड, कोवैक्सीन और स्पूतनिक के बाद मॉडर्ना का टीका भारत में उपलब्ध होने वाला कोविड-19 का चौथा टीका होगा। एक सूत्र ने बताया, डीसीजीआई ने ड्रग्स ऐंड कॉस्मेटिक्स एक्ट,1940 के तहत नयी औषधि एवं क्लिनिकल परीक्षण नियम, 2019 के प्रावधानों के मुताबिक सिप्ला को देश में सीमित आपात उपयोग के लिए मॉडर्ना के कोविड-19 टीके का आयात करने की अनुमति दे दी है।

मॉडर्ना वैक्सीन का भारत में ट्रायल नहीं

मॉडर्ना वैक्सीन

दरअसल, अमेरिका की मॉडर्ना वैक्सीन विश्व स्वास्थ्य संगठन यानि डब्ल्यूएचओ की वैक्सीन की सूची में शामिल है।डब्ल्यूएचओ की वैक्सीन की सूची में शामिल होने की वजह से भारत में ब्रिजिंग ट्रायल नहीं होगा।

आगे पढ़ें: घर बैठे बीमा का लाभ उठाएं, अब घर-घर जाकर डाकिया करेंगे टू-व्हीलर और फोर व्हीलर का इंश्योरेंस, ये सुविधा 293 शाखाओं पर

ऐसे समय में जब लगातार दुनिया में कोरोना का नया डेल्टा वेरिएंट फैल रहा है, ऐसे में यह जानना जरूरी है कि मॉडर्ना वैक्सीन इस वैरिएंट के खिलाफ कितना असरदार है। मॉडर्ना वैक्सीन क्लिनिकल ट्रायल के दौरान अमेरिका में तीसरे चरण में 94 फीसदी असरदार पाई गई। लेकिन इसे काफी कम तापमान में रखने की जरूरत पड़ती है।

आगे पढ़ें: ड्रोन के खतरों को लेकर गया एयरपोर्ट पर हाई अलर्ट जारी, सुरक्षा को लेकर कई अफसरों की हुई हाईलेवल मीटिंग

मॉडर्ना ने एक पत्र में 27 जून को डीसीजीआई को सूचना दी कि अमेरिकी सरकार यहां उपयोग के लिए कोविड-19 के अपने टीके की एक विशेष संख्या में खुराक कोवैक्स के जरिए भारत सरकार को दान में देने के लिए सहमत हो गई है. साथ ही, उसने इसके लिए केन्द्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) से मंजूरी मांगी है।

By Biharkhabre Team

मेरा नाम शाईना है। मैं बिहार के भागलपुर कि रहने बाली हूं। मैंने भागलपुर से MBA की पढ़ाई कंप्लीट की हूं। मैं Reliance में कुछ समय काम करने के बाद मैंने अपना खुद का एक ब्लॉग बनाया। जिसका नाम बिहार खबरें हैं, और इस पर मैंने देश-दुनिया से जुड़े अलग-अलग विषय में लिखना शुरू किया। मैं प्रतिदिन देश दुनिया से जुड़े अलग-अलग जानकारी अपने Blog पर Publish करती हूं। मुझे देश दुनिया के बारे में नई नई जानकारी लिखना पसंद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.