बिहार खबरें

बिहार की राजधानी में लगातार अपराध बढ़ता ही जा रहा है। ताजा मामला पटना से सटे मसौढ़ी का है। दरअसल पुलिस ने 6 दिनों से लापता मसौढ़ी के कृषि पदाधिकारी (agriculture officer) की हत्या कर दी गई है। उनका सब गौरीचक इलाके स्थित एक नदी के किनारे में से मिला है। कृषि पदाधिकारी अजय कुमार मूल रूप से लखीसराय के बड़हिया के रहने वाले थे। अधिकारी के परिजनों ने अपहरण की आशंका जताते हुए पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी। सूचना मिलने पर सिटी एसपी घटनास्थल पर पहुंचकर जांच की।

बिहार में कृषि अधिकारी की हत्या

जानकारी के अनुसार अजय कुमार पिछले 18 जनवरी को पटना के कंकड़बाग, चांदमारी रोड, बुद्ध नगर रोड नंबर 2 स्थित आवास से अपने कार्यालय में ड्यूटी पकड़ने के लिए निकले थे। बताया जा रहा है कि वे पटना से ट्रेन पकड़ कर मसौढ़ी गए। और मसौढ़ी कोर्ट हाॅल्ट स्टेशन पर उतरे थे। यहां उतरने के बाद वे अनुमंडल चौराहा के पास खाद बीज की एक दुकान पर बैठे थे। यहां उन्होंने बिना चीनी की चाय पी थी। कृषि अधिकारी ने वहां कहा था कि वह दाढ़ी बनवाने के बाद कार्यालय जाएंगे।

उसके बाद उनका कोई अता पता नहीं है। उनके लापता होने के बाद परिवार के लोगों ने पुलिस में किडनैपिंग का मामला दर्ज कराया था। जिसके बाद पुलिस की कई टीमों को उनकी बरामदगी के लिए लगाया गया था। लेकिन उसके बाद भी उनकी बरामदगी नहीं हो सकी थी। घटना के 6 दिन बाद रविवार को प्रखंड कृषि पदाधिकारी अजय कुमार का शव नदी के किनारे से मिला।

शव को पोस्टमार्टम के लिए पीएमसीएच भेजा गया

फिलहाल नदी किनारे से बरामद शव को पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए पटना के पीएमसीएच भेज दिया है।इस संबंध में मसौढ़ी थानाध्यक्ष शुभम आर्य ने बताया कि दरधा नदी के पास साहेब नगर के समीप एक डेड बॉडी मिली है। डेड बॉडी के पास से जो आई कार्ड मिला है। वह लापता अजय कुमार का ही है। लेकिन शव की सही पहचान पोस्टमार्टम और जांच के बाद हो पाएगी।

बिहार में कृषि अधिकारी की हत्या परिजनों ने पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाया

परिजनों ने पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाया था जिसके बाद पुलिस ने तत्परता से काम करते हुए आरोपी को 24 घंटे के भीतर ढूंढ निकाला। गिरफ्तार गोलू कृषि पदाधिकारी के बहुत करीबी थे। उनको जमीन दिखाने के बहाने किडनैपिंग किया था। आरोपी गोलू का कृषि पदाधिकारी से रोज का वास्ता था। इसलिए वे आसानी से उनके साथ चले गए। पुलिस को इस हत्याकांड में शामिल हुए उन लोगों के बारे में जानकारी दी। फिलहाल पुलिस गोलू से और भी पूछताछ कर रही है। पुलिस ने बताया कि बताए गए नामों की पुष्टि हो जाने के बाद गिरफ्तारी होगी। हालांकि पुलिस ने गोलू को उस समय गिरफ्तार नहीं किया। अब जबकि कृषि पदाधिकारी की हत्या हो गई है तो पुलिस की कार्यशैली हमेशा की तरह एक बार फिर विवादों के घेरे में है। परिजनों का रो रो कर बुरा हाल हो गया है।

राजधानी पटना में पिछले दिनों हुए इंडिगो के स्टेशन हेड रूपेश हत्याकांड में पुलिस के हाथ अभी तक खाली है। मामले की तफ्तीश जारी है। लेकिन इसको लेकर कोई बड़ा खुलासा नहीं हुआ। इस बीच में मसौढ़ी के कृषि पदाधिकारी अजय कुमार सिंह की हत्या से हड़कंप मच गया। सवाल उठ रहा है कि क्या अपराधियों को पुलिस का खौफ नहीं रह गया है। बीजेपी सांसद रामकृपाल यादव ने कहा कि इस तरह की घटनाएं चिंता का विषय है।

 

By Biharkhabre Team

मेरा नाम शाईना है। मैं बिहार के भागलपुर कि रहने बाली हूं। मैंने भागलपुर से MBA की पढ़ाई कंप्लीट की हूं। मैं Reliance में कुछ समय काम करने के बाद मैंने अपना खुद का एक ब्लॉग बनाया। जिसका नाम बिहार खबरें हैं, और इस पर मैंने देश-दुनिया से जुड़े अलग-अलग विषय में लिखना शुरू किया। मैं प्रतिदिन देश दुनिया से जुड़े अलग-अलग जानकारी अपने Blog पर Publish करती हूं। मुझे देश दुनिया के बारे में नई नई जानकारी लिखना पसंद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *