बिहार खबरें

केंद्रीय वित्त मंत्री (Central Finance Minister) निर्मला सीतारमण ने आज देश का केंद्रीय बजट पेश किया। इसमें उम्मीद के अनुसार स्वस्थ व आधारभूत संरचना के क्षेत्रों पर फोकस रखा गया था। बिहार बजट की बात करें तो राज्य के लिए स्पेशल कुछ नहीं मिला। यही वजह रही कि प्रदेश के अर्थशास्त्रियों में इसको लेकर निराशा है। रोजगार और खास तौर पर विकास के कई मानकों पर बिहार जैसे पिछड़े राज्य के लिए विशेष पैकेज की अपेक्षा की जा रही थी। लेकिन बिहार के एक्सपर्ट्स की नजर में इस वजह से बहुत ज्यादा हासिल नहीं हो सका।

बिहार बजट

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने केंद्रीय वित्त मंत्री सीतारमण द्वारा पेश किए गए आम बजट की तारीफ की है। नीतीश ने कहा कि कोरोना महामारी और राजस्व संग्रहण में दिक्कतों के बावजूद केंद्र सरकार द्वारा संतुलित बजट पेश किया गया है। यह स्वागत योग्य है। उन्होंने कहा कि मैं संतुलित बजट पेश करने के लिए केंद्र सरकार को बधाई देता हूं।

बिहार बजट

बिहार बजट को लेकर एक्सपर्ट की राय

चेंबर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष केपी अग्रवाल ने कहा कि विषम परिस्थिति में जो राष्ट्रीय स्तर का बजट पेश किया गया है।इसमें कुछ खास राहत तो नहीं है। लेकिन विकट परिस्थितियों से उबरते हुए यह बजट सामान्य कहा जा सकता है। बिहार को अलग से कुछ भी नहीं मिला है। लेकिन अगर समग्र रूप से देखें तो फायदा हो सकता है। नंबर के आधार पर आकलन करें तो राष्ट्रीय स्तर पर 10 में से 7 से 8 नंबर इस बजट को दिया जा सकता है।

आगे पढ़ें: 1 फरवरी से बदल जाएंगे नियम, एटीएम कार्ड,रसोई गैस और राशन कार्ड से जुड़े कई नियमों में होगा बदलाव

कोरोना के कारण असर पड़ा

अर्थशास्त्री एस चौधरी कहते हैं कि हमें देश की हालत को भी देखना होगा। देश करीब 1 साल से कोरोना के संकट से गुजर रहा है।जिसका असर अर्थव्यवस्था पर पड़ा है। बिहार को अलग से कुछ नहीं मिला।इसके पीछे केंद्र की आर्थिक मजबूरियां भी रही है।

आगे पढ़ें: भागलपुर के डॉ दिलीप कुमार सिंह को पद्मा श्री अवॉर्ड से नवाजा गया, देश की सेवा करने के लिए अमेरिका की छोड़ी थी नौकरी

वही एक और एक्सपर्ट किशोर मंत्री ने कहा कि सरकार की स्थिति को भी समझना होगा। पिछले 1 वर्ष से देश कोरोना के संकट से गुजर रहा है। यह सिंपल इकोनामी का फंडा है कि पैसा आएगा तो खर्च होगा। इस बात को एड्रेस किया जाना था। लेकिन यह जरूर है कि बिहार को अलग से कुछ मिलता, लेकिन केंद्रीय सरकार की मजबूरियों को भी देखा जाना जरूरी है। क्योंकि केंद्र सरकार ने भी इस कोरोनाकाल इस विकट परिस्थितियों और देश को निकलने का प्रयत्न किया है।

By Biharkhabre Team

मेरा नाम शाईना है। मैं बिहार के भागलपुर कि रहने बाली हूं। मैंने भागलपुर से MBA की पढ़ाई कंप्लीट की हूं। मैं Reliance में कुछ समय काम करने के बाद मैंने अपना खुद का एक ब्लॉग बनाया। जिसका नाम बिहार खबरें हैं, और इस पर मैंने देश-दुनिया से जुड़े अलग-अलग विषय में लिखना शुरू किया। मैं प्रतिदिन देश दुनिया से जुड़े अलग-अलग जानकारी अपने Blog पर Publish करती हूं। मुझे देश दुनिया के बारे में नई नई जानकारी लिखना पसंद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *