बिहार खबरें

गया: बीते दिनों देश में आतंकियों के ड्रोन हमले और दरभंगा में बम प्लांट की घटना के बाद गया एयरपोर्ट की सुरक्षा बढ़ाई गई सुरक्षा व्यवस्था को अलर्ट मोड में ला दिया गया है। एरोड्रम की सुरक्षा व उसके रख-रखाव से जुड़े अफसरों को सुरक्षा को लेकर जानकारी दी गई। आतंकियों के ड्रोन हमले को लेकर शनिवार को गया एयरपोर्ट पर ऑनलाइन एरोड्रम कमेटी की मीटिंग डीएम अभिषेक सिंह की अध्यक्षता में की गई।

गया एयरपोर्ट की सुरक्षा बढ़ाई गई

विमानपत्तन निदेशक दिलीप कुमार ने संयोजक के रूप में सभी संबंधित सदस्य अधिकारियों का स्वागत करते हुए मीटिंग की महत्ता को बताया। गया एयरपोर्ट के मुख्य एयरपोर्ट सुरक्षा अधिकारी उप समादेष्टा बलवंत कुमार सिंह ने एरोड्रम कमेटी के सभी सदस्यों को उनकी जवाबदेही से अवगत कराया। विमान अपहरण की स्थिति को हैंडल करने के लिए केंद्रीय स्तर पर गठित कमेटी व उनके कार्य प्रणाली पर चर्चा हुई।

गया एयरपोर्ट की सुरक्षा बढ़ाई गई, 24 घंटे अलर्ट मोड में रहने का निर्देश

गया एयरपोर्ट की सुरक्षा बढ़ाई गई

उड्‌डयन मंत्रालय और गृह मंत्रालय की ओर से जारी कंटीजेंसी प्लान और गाइड लाइन को लेकर विशेष बैठक की गई। साथ ही एयरपोर्ट के भीतर व बाहर की सुरक्षा को 24 घंटे तत्काल प्रभाव से हाई सिक्युरिटी पर ही रहने के फरमान जारी किए गए। सुगम व सुरक्षित विमान परिचालन के लिए एयरपोर्ट को कई निर्देशित मानकों पर खरा उतरना पड़ता है। उन्हीं मानकों को केंद्र में रखते हुए एयरपोर्ट की सुरक्षा को लेकर गृह मंत्रालय व उड्‌डयन मंत्रालय की गहरी चिंता के बाबत एरो ड्रम कमेटी को रूबरू कराया गया।

कई अफसरों की हुई हाईलेवल मीटिंग

इस विशेष व हाई लेबल मीटिंग में डीएम अभिषेक सिंह, एयापोर्ट डायरेक्टर दिलीप कुमार सिटी एसपी राकेश कुमार, एनएसजी के प्रतिनिधि मेजर नवनीत बहुगुणा, सीआरपीएफ के डीसी अवधेश कुमार ने सुरक्षा के तमाम अहम पहलुओं पर अपनी राय और आवश्यक गाइड लाइन जारी किए।

आगे पढ़ें: Advocate Protection Act: वकील या उसके परिवार को क्षति व चोट पहुंचाने पर भरना होगा 10 लाख रुपए का जुर्माना, ड्राफ्ट में 16 धाराएं बनाई गई

एरोड्रम पर्यावरण कमेटी मीटिंग का भी ऑनलाइन आयोजन किया गया। विमान परिचालन को सुरक्षित रखने के लिए एयरपोर्ट के आसपास मांस मछली की दुकानों को हटाने की आवश्यकता बताई गई। गया-डोभी रोड की तरफ एयरपोर्ट के फनेल एरिया के पास हो रहे निर्माण को अनापत्ति प्रमाण पत्र लेने की भी जरूरत के बारे में लोगों को अवगत कराने के लिए चर्चा की गई। बारिश के दिनों में एयरपोर्ट परिचालन क्षेत्र और आस पास जल जमाव की समस्या को दूर करने के लिए ड्रेनेज को बनवाने व पानी निकासी में तत्कालीन समस्या को दूर करने पर जोर दिया गया।

By Biharkhabre Team

मेरा नाम शाईना है। मैं बिहार के भागलपुर कि रहने बाली हूं। मैंने भागलपुर से MBA की पढ़ाई कंप्लीट की हूं। मैं Reliance में कुछ समय काम करने के बाद मैंने अपना खुद का एक ब्लॉग बनाया। जिसका नाम बिहार खबरें हैं, और इस पर मैंने देश-दुनिया से जुड़े अलग-अलग विषय में लिखना शुरू किया। मैं प्रतिदिन देश दुनिया से जुड़े अलग-अलग जानकारी अपने Blog पर Publish करती हूं। मुझे देश दुनिया के बारे में नई नई जानकारी लिखना पसंद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.