बिहार खबरें

बिहार के सासाराम में खपत से ज्यादा बिजली बिल आने के बाद उसमें सुधार नहीं होने के कारण एक किसान ने लगाई फांसी यह घटना दरिगांव थाना क्षेत्र के नौगाई गांव की है। मृत किसान की पहचान दिनेश सिंह के रूप में हुई है। अपने पिता की लाश को देखकर बेटी ने भी जहर खा लिया लेकिन मौके पर मौजूद ग्रामीणों ने उसकी जान बचा ली।

किसान ने लगाई फांसी

आर्थिक तंगी के कारण किसान बकाया बिजली बिल नहीं दे पा रहा था

किसान के आत्महत्या के पीछे 49 हजार 818 रुपये का बिजली बिल बकाया होने की बात ग्रामीण बता रहे हैं। आर्थिक तंगी के कारण किसान बकाया बिजली बिल का भुगतान नहीं कर पा रहा था। मिले कागजात के मुताबिक दिनेश सिंह का उपभोक्ता नंबर 22 3500 4918 5 है जिसमें 28620 रुपए का विद्युत बिल बकाया था। विलंब के कारण विद्युत बिल के अधिभार के तौर पर 19850 रुपए को जोड़ते हुए कुल बकाया राशि के तौर पर 48471 रुपए के साथ-साथ अन्य विभागीय चार्ज जोड़कर 49818 रुपए का बिल किसान को थमाया गया था। आर्थिक तंगी के कारण किसान बिजली बिल नहीं दे पा रहा था।

आगे पढ़ें: बिहार के लखीसराय में पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़, एक नक्सली की मौत अन्य नक्सलियों की तलाश जारी

जानकारी के अनुसार दिनेश के घर में चार बल्ब और दो पंखे का कनेक्शन है। बिजली बिल में सुधार के लिए उसने आवेदन दिया था, जहां आधा पैसा जमा करने पर सुधार की बात कही गई। दिनेश द्वारा कर्ज लेकर 20 हजार रुपया जमा भी किया गया। लेकिन बिजली बिल में सुधार नहीं किया गया। इससे परेशान होकर दिनेश ने गुरुवार की सुबह में घर में दरवाजा बंद करके पंखे से फांसी लगा ली। दिनेश की छह बेटियां हैं। जिनमें से दो की शादी हो चुकी है।

आगे पढ़े: बिहार के नालंदा में प्रेमी प्रेमिका की कुदाल से काटकर हत्या, मामला ऑनर किलिंग का

किसान ने लगाई फांसी बेटी की हालत नाजुक

विभाग की ओर से बकाया बिजली बिल भुगतान करने के लिए काफी दबाव बनाया जा रहा था। इधर घटना के बाद से परिवार में मातम पसर गया है। किसान की छह बेटियां है उनमें से दो विवाहित हैं। चार बेटियां अविवाहित हैं। उनमें से एक ने पिता की मौत के सदमे के कारण आनन-फानन में कीटनाशक दवा पीकर आत्महत्या प्रयास किया है। उसकी हालत चिंताजनक बनी हुई है। निजी अस्‍पताल में इलाज चल रहा है।

आगे पढ़े: Bihar SHSB Recruitment Online Form 2021: बिहार स्वास्थ्य विभाग की ओर से मेडिकल लैब टेक्निशियन के 222 पदों पर भर्ती, ऐसे करें आवेदन

विभाग की ओर से बकाया बिजली बिल भुगतान करने के लिए काफी दबाव बनाया जा रहा था। इधर घटना के बाद से परिवार में मातम पसर गया है। किसान की छह बेटियां है उनमें से दो विवाहित हैं। चार बेटियां अविवाहित हैं। उनमें से एक ने पिता की मौत के सदमे के कारण आनन-फानन में कीटनाशक दवा पीकर आत्महत्या प्रयास किया है। उसकी हालत चिंताजनक बनी हुई है। निजी अस्‍पताल में इलाज चल रहा है। परिवार वालों को इसकी जानकारी हुई तो पुलिस को सूचना देकर बुलाया गया।

By Biharkhabre Team

मेरा नाम शाईना है। मैं बिहार के भागलपुर कि रहने बाली हूं। मैंने भागलपुर से MBA की पढ़ाई कंप्लीट की हूं। मैं Reliance में कुछ समय काम करने के बाद मैंने अपना खुद का एक ब्लॉग बनाया। जिसका नाम बिहार खबरें हैं, और इस पर मैंने देश-दुनिया से जुड़े अलग-अलग विषय में लिखना शुरू किया। मैं प्रतिदिन देश दुनिया से जुड़े अलग-अलग जानकारी अपने Blog पर Publish करती हूं। मुझे देश दुनिया के बारे में नई नई जानकारी लिखना पसंद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *